Author :

  • कलियुग का रावण

    कलियुग का रावण

    विनाश काले विपरीत बुद्धि इस कथनी का मारा हूँ । जानकी अपहरण करके मै खुद अब तक भी पछताता हूँ । सुन पुकार जानकी की तब राम दौड़े आ जाते थे। रघुकुल रीत निभाने को तब...