गीत/नवगीत

योगी जी! जाग जाईये

ओ भगवाधारी सिंह पुत्र, है कहाँ तुम्हारी हुंकारें, हिंदुत्व तुम्हारा कहाँ गया, हैं कहाँ तुम्हारी तलवारें, तुमको गद्दी पर बिठा दिया यह सोच कि कुछ बदलाव मिले, अफसोस तुम्हारे रहते भी, हमको घावों पर घाव मिले, जेहादी मंसूबो से हम लड़ते लड़ते झल्लाये थे, यू पी का हिन्दू बचा रहे, योगी योगी चिल्लाए थे, तुम […]

गीत/नवगीत

नन्ही ट्विंकल की निर्मम हत्या पर

(नन्ही ट्विंकल की निर्मम हत्या पर सरकार,समाज को जगाती, दोगलों को धिक्कारती एक आवश्यक कविता) तीन बरस की गुड़िया तिल तिल मरके आखिर चली गयी, आज अली के गढ़ में बिटिया राम कृष्ण की छली गयी, नन्हे नन्हे पंख उखाड़े, मज़हब के मक्कारों ने, देखो कैसे ईद मनाई,दो दो रोज़ेदारों ने, कोमल अंग काट कर […]

गीत/नवगीत

गीत – चौकीदार चोर बतलाया

(रफेल सौदे पर उच्चतम न्यायालय के निर्णय के बाद राहुल गांधी जी को चुनावी परिणामो के मध्य आईना दिखाती मेरी नई कविता) चौकीदार चोर बतलाया, गला फाड़ कर चिल्लाए चोर चोर कहते कहते तुम तीन प्रदेश जीत लाये मूरख जनता बहकावे मैं साथ तुम्हारे चल बैठी कुछ जनता नोटा के चक्कर मे खुद को ही […]

गीत/नवगीत

मंदसौर की घटना पर

कठुआ में सब काठ के उल्लू पहुँच गए थे रोने को लेकर साथ मीडिया पहुंची तकिया और बिछौने को मोमबत्तियों की बिक्री में देखा खूब इज़ाफ़ा था पप्पू अपना लेकर चप्पू चला चला कर हांफा था नाम आसिफा था, यह सुनकर सब के सब बौराये थे रेप रेप हो गया इंडिया, सबके सब चिल्लाये थे […]

गीत/नवगीत

गीत : गौरव चौहान

(सर्जिकल स्ट्राइक का वीडियो आने के बाद सबूत मांगने वाले नेताओं को धिक्कारती कविता) सत्य शौर्य साहस को छल बतलाने वाले नेता सुन सर्जीकल को फर्जीकल बतलाने वाले नेता सुन सुन कानों को खोल गरजती बंदूकों बम गोलों को देख ज़रा आँखों से सरहद पार गिरे उन शोलों को देख ज़रा धूं धू कर जलती […]

गीत/नवगीत

गीत

(अररिया में सरफराज आलम की जीत पर लगे पाकिस्तान ज़िंदाबाद,भारत विरोधी नारों का विश्लेषण करती कविता) तुमने ललकारें सुनी नहीं, कानों में तेल लगाऊं क्या? आँखों से तुमको दिखा नहीं? अब दूरबीन पकड़ाऊँ क्या? भारत तेरे टुकड़े होंगे, होगा भारत बर्बाद सुनो मोदी हारा, मोदी हारा, पाकिस्तां ज़िंदाबाद सुनो मैं कविता लिख लिख हार गया, […]

गीत/नवगीत

गीत – दिखा दिया है योगी ने

आँखें जिस पल को तरसी थीं, वह दर्श दिखाया योगी ने उस सदन बीच खुलकर हिदूं उत्कर्ष दिखाया योगी ने निज धर्म-कर्म पर गौरव है, ये सिखा दिया है योगी ने जो मोदी नहीं दिखा पाये, वो दिखा दिया है योगी ने बेशर्म जनेऊ धारी थे, जो इफ़्तारो में जाते थे हाथों से तिलक मिटा […]

गीत/नवगीत

गीत : बेटा चन्दन नहीं रहा

(कासगंज उ प्र में 26 जनवरी तिरंगा यात्रा में मुसलमानों द्वारा देश भक्त युवा चन्दन की गोली मारकर हत्या किए जाने पर सनातन समाज को चेताती नयी कविता) कोई हल्ला, कोई मातम, कोई क्रन्दन नहीं रहा कासगंज का ध्वज संवाहक, बेटा चन्दन नही रहा लिए हाथ में अमर तिरंगा, गद्दारों से छला गया आँखे खोलो, […]

गीत/नवगीत

गीत : गुजरात में कांग्रेस की हार

(गुजरात और हिमाचल में कांग्रेस की हार पर राहुल खान गांधी को समर्पित मेरी ताज़ी कविता) खूब लगाया ज़ोर कुंवर ने, बाहें खूब समेटी थीं, कुछ पटेल की भटकी नस्लें, जातिवाद पर ऐंठी थीं, इक फ़िरोज़ का पोता, जबरन परशुराम अवतारी था और ईसाई अम्मा का वो लाल जनेऊ धारी था, फ़र्ज़ी हिन्दू शिवलिंगों पर नीर चढाने निकले […]

गीत/नवगीत

गीत – बॉलीवुड में भांड भरे हैं

बॉलीवुड में भांड भरे है,, नीयत सबकी काली है.. इतिहासों को बदल रहे,, संजय लीला भंसाली है.. : चालीस युद्ध जितने वाले को ना वीर बताया था..संजय तुमने बाजीराव को बस आशिक़ दर्शाया था.. : सहनशीलता की संजय हर बात पुरानी छोड़ चुके.. क्षात्र धर्म की खातिर हम कितनी मस्तानी छोड़ चुके.. : अपराध जघन्य […]