Author :

  • मधुगीति

    मधुगीति

    उत्ताल ताल आकाश में आच्छादित है, मधुर वायु अधर का स्पर्श लिये आई है; अग्नि त्रिकोणीय आभा ले दीप्तिमान हुई है, जल हर जलज की प्राण-प्रतिष्ठा में लगा है ! धरा पर सब उनके साये में...






  • संस्था व व्यक्ति प्रबंधन

    संस्था व व्यक्ति प्रबंधन

    संस्थाएँ व्यक्ति बनाते हैं जिनमें विकसित या अविकसित साहित्यकार, कलाकार, अध्यात्म पथिक, सामाजिक नेतृत्व, आदि आदि छिपा हो सकता है ! उनके मन स्वयं के अस्तित्व व विश्व की अजस्र सत्ता के समझने व उस राह...



  • आहार विचार

    आहार विचार

    आज अपेक्षा है कि मनुष्य सात्विक आहार कर अपने तन मन को स्वस्थ रखें ।अपने लिये उचित व आवश्यक आहार का चयन करें और उत्तम भाव व विचार ग्रहण करते हुए अपना आत्म स्वरूप समझ ईश्वरत्व...