Author :






  • परम सत्य 

    परम सत्य 

    सत्य आज खामोश है, उदास है निराश है खो बैठा विश्वास है, मैंने पूछा क्यों- सत्य बोला – आजकल मेरी सुनता ही कौन है. मैं दर दर भटक रहा हूँ सच्चे को तलाश रहा हूँ जहाँ...


  • गरीब दुनिया

    गरीब दुनिया

    दुनिया में कुछ लोग तो इतने “गरीब” होते हैं, उनके पास पैसे के सिवा और कुछ नहीं होता . बस पैसा पैसा और पैसा , सोते जागते बस पैसा न दया भाव न करुणा,न परोपकार का...


  • नादान दोस्त

    नादान दोस्त

    न जाने कैसे — गैरों की बातें सुन कर वो नादानी में इतना बहक गए , बड़ने लगे जब वो खंजर ले के हाथ में मेरे गिरेबां तक पहुँच गए, यह ज़मीं ज़रकने लगी. और कब्र...