Author :

  • याद आयेगी

    याद आयेगी

    दुनिया भूले चाहे अब फिर से याद आयेगी घर-बाहर जहाँ भी जायेगी याद आयेगी जब से आवारा हूँ मैं वो मुझे ना चाहेगी पूछेगी दुनिया मग़र वो मुझे छुपाएगी क़ातिल आँखे ग़म कि आवरे पर थी...

  • बुलाना होगा

    बुलाना होगा

    कदम-कदम पर जाना होगा दिल का दर्द छुपाना होगा किसकी आँखो में हैं प्यार नजरें देख चुराना होगा तकती रहती वो एक नज़र लगता प्यार पुराना होगा दिल दे दिया मुझको उसने सोचा  शख्स बुरा ना...

  • कविता

    कविता

    हे औरत! यह काँटो की सेज हैं तुम अपने को सहेज हे जमाने! यह औरत हैं किसी मर्द का औजार नहीं सताए कोई भी यह तुम्हें अधिकार नहीं औरत हैं खूबसूरत खुशियों की पेटी किसी की...