Author :

  • अंजू – भाग ६

    अंजू – भाग ६

    धर्मेंद्र रोज सुबह तैयार होकर दुकान जाता। दिन भर मन लगाकर काम करता और रात को लौटकर खाना खाकर अपने कमरे में चला जाता। स्वयं को उसने पूरी तरह काम में झोंक दिया था। मम्मी से,...

  • भीष्म

    भीष्म

    आकर्षक व्यक्तित्व के थे धनीवीरों के वीर थे वह शूरवीर,धवल हिम सा सरल हृदयश्वेत वस्त्र में झलकता था धीर । ज्ञानियों के ज्ञानी थे महा ज्ञानी विवेक, बुद्धि से व्यक्तित्व था भरपूर, पिता के लिए था...

  • अंजू भाग ५

    अंजू भाग ५

    घर पहुंचकर धर्मेंद्र ने देखा चाचा जी शिवदास और मौसा जी नीलेश गर्ग दोनों बैठे हुए हैं उनको देखते ही वह समझ गया कि..” पापा ने इनको बुला लिया है, मुझे समझाने के लिए।” वह दोनों...

  • मनोकामना

    मनोकामना

    तुम बनो हिमालय सा ऊंचा छू लो नील अकाश,दुनिया के प्रांगण में फैले सुख्याति का प्रकाश।सशक्त तन में बसे एक सुंदर, सुकोमल मन,अनुराग सुगंध से रहे भरा जीवन प्रांगण का उपवन।छाये न जीवन आकाश में दुख...

  • अंजू भाग 4

    अंजू भाग 4

    भगवान दास और सुषमा की आंखों से नींद कोसों दूर थी। नींद आती भी तो कैसे? इतनी बड़ी घटना हो जाने के बाद किसी माता,पिता की आंखों में नींद अपना डेरा कैसे डाल सकती है। वह...

  • सपनों का जहान

    सपनों का जहान

    आओ फूलों सा हंसे और सब को हंसना सिखाएं,खुद खुशी से जिए और सबको जीना सिखाए। पल दो पल की है जिंदगानी उसे रो कर ना गवाएं, आज का पल है हाथों में कल आए कि...

  • अंजू – भाग 3

    अंजू – भाग 3

    भगवान दास तथा उनकी पत्नी सुषमा दोनों धर्मेंद्र के लिए इंतजार कर रहे थे, खाने के टेबल पर। धर्मेंद्र को घर पहुंचने में थोड़ी देर हुई तो माता-पिता चिंतित थे। उसके पहुंचते ही पिता ने एकदम...

  • परिवर्तन

    परिवर्तन

    बदलते समय के साथ साथ बदले विचार, बदले परिधान, वेशभूषा ही बताए व्यक्ति का व्यक्तित्व की सही पहचान। सतयुग से लेकर कलयुग तक बदले हजारों बार परिधान परिधानों से ही होता आया है प्रत्येक युग की...

  • अंजू – भाग 2

    अंजू – भाग 2

    घर जाकर अंजू पढ़ने का बहाना बनाकर एक किताब लेकर चुपचाप एक कोने में बैठ गई। वह मन ही मन सोचने लगी..” यह कैसा एहसास है? यह मुझे क्या हो गया? मुझे ऐसा क्यों लग रहा...

  • अंजू – भाग 1

    अंजू – भाग 1

    अंजू को पी.एच.डी. की डिग्री मिल गई है समाजशास्त्र में। उसने कई महाविद्यालयों में प्रोफेसर के पद हेतु आवेदन पत्र भेजा था। एक महाविद्यालय से उसे नियुक्ति पत्र मिल गया है, देख कर उसे इतना हर्ष...