Author :


  • आँसू

    आँसू

    तुम  मेरे हमसफ़र और रह गुजर  हो ग़म में डूबूं या खुशी में तुम तो सहज छलक पड़ते हो। किसी की पीड़ा देख बह पड़ते हो, तुम्हारा बहना अपूर्व शांति सौंपता है नई दिशा देता है...

  • जिन्दगी क्या है

    जिन्दगी क्या है

    जिन्दगी तो प्रेम की एक गाथा है, जिन्दगी भावुक प्रणय की छाँव है, जिन्दगी है वेदना की वीथिका सी जिन्दगी तो कल्पना की छुवन भर है। जिन्दगी है चन्द सपनों की कहानी, जिन्दगी विश्वास के प्रति...

  • मातृभूमि

    मातृभूमि

    मातृभूमि के लिये नित्य ही, अभय हो जीवन दे दूंगा । तन ,मन , धन निस्वार्थ भाव, सर्वस्व समर्पित कर दूंगा। जिस मातृभूमि में जन्म लिया है, जिसके अंक नित खेल हूँ। शिवा जी दधीचि की...


  • ऐसा बने

    ऐसा बने

    दिल न कभी किसी का दुखाये बुझते दीपक की लौ बन जाईये। काम हमेशा सब का करते जाईये राह के कांटे सबके चुनते जाईये। कई गम अगर दिल में यदि हो भी पर दूसरो के खातिर...

  • पर्यावरण बचाओ

    पर्यावरण बचाओ

    कितनी सुन्दर छटा निराली, प्रकृति में चारों ओर हरियाली । कलकल कर रही है नदियां झरने सुना रहे है मधुर संगीत, नाचे मोर बदरिया देख काली देखो प्रकृति में चारों ओर हरियाली । सुन्दर फूल खिले...


  • पर्यावरण बचाएं

    पर्यावरण बचाएं

    पेड़ों से इस धरा को सजाएँ वातावरण स्वच्छ बनाये आओ पर्यावरण बचाएं सब मिल के पेड़ लगाएं प्रदूषित कर दिया नदियों का पानी और तबाह हो रही है जिंदगानी जहाँ तहाँ मत कूड़ा फेंको धरा का...