Author :

  • गणपति वन्दना

    गणपति वन्दना

    आंग्ल प्रेमी सीखो आंग्ल, पर हिंदी से न विमुख हो सुनिश्चित करो, दिन का हर कामकाज हिंदी में हो | अच्छी बात है सीखना हर भाषा, बुरी नहीं कोई भाषा विदेशी को क्यों महत्त्व ज्यादा, समृद्ध...

  • दोहे -हिन्दी दिवस पर

    दोहे -हिन्दी दिवस पर

        हिंदी है रूपवती किन्तु, गरीब की कन्या है शहर में घृणा पात्र, गाँव में प्यारी है | ***** बाबुओं की दो माता, अंग्रेज़ी और हिन्दी खुद की माँ अंग्रेजी, सौतेली है हिन्दी | *****...

  • मानव अस्तित्व खतरे में !

    मानव अस्तित्व खतरे में !

    मानवविज्ञानी एवं वैज्ञानिकों का मत है – पृथ्वी की उत्पत्ति के लाखों वर्ष बाद पृथ्वी में जीव की उत्पत्ति हुई |महुष्य की उत्पत्ति बहुत बाद करीब चालीश लाख साल बाद हुई वो भी होमो (Homo) के...

  • खूबसरत भ्रम!

    खूबसरत भ्रम!

    जानता हूँ मैं यह ध्रुव सत्य है, पुराने दिन कभी लौटकर नहीं आयगा, जीवन फिर कभी पहले जैसा नहीं होगा, फिर भी … जब कभी नया चाँद उगता है अँधेरी निशा में चाँद की दुधिया रश्मि...


  • दोहे !

    दोहे !

        विवेक को बनाओ जज, मन होगा रस्ते पर सचाई के सांगत में, विवेक पहरेदार | ******************************** साम-दाम-दण्ड व भेद, स्वार्थ-नीति हैं सब स्वार्थी नेता सोचते, उनके दास हैं सब | ******************************** नहीं धार्मिक यहाँ...



  • देश खुशहाल है !

    देश खुशहाल है !

    आगे देखो ,देखते रहो ,अच्छे  दिन आने वाले हैं भाषण सुनकर ,गदगद जनता ,दिन बदलने वाले हैं गिन गिनकर काटते हैं दिन,अच्छे दिन के इन्तेजार में नींद गायब ,सपने गायब, खुली आँखों में सपने देखते हैं...

  •  विजयी सैनिक

     विजयी सैनिक

      हॉस्पिटल के कैंसर वार्ड के विस्तर पर लेटे लेटे सुबीर थक चूका था l एक सप्ताह से वह हॉस्पिटल के इसी वार्ड में था l दिनभर वह इंतजार करता कि घर से कोई आये उसकी...