Author :

  • कटु सत्य

    कटु सत्य

    यह तो तय था जिस दिन हम मिले थे उससे बहुत पहले यह निश्चित हो गया था एक दिन हम मिलेंगे और एक दिन तुम मुझे छोड़ जाओगी या मैं तुम्हे छोड़ जाउंगा , कौन किसको...



  • ईश्वर का स्व-रूप क्या  है ?

    ईश्वर का स्व-रूप क्या है ?

    जितने लोग उतने ही सोच ,उतने ही रूप l इसीलिए कहा गया है ,”मुंडे मुंडे  मतिर्भिन्न “l  यह बात शत  प्रतिशत हिन्दू धर्म के लिए लागू होता है l हिन्दू धर्म में तैंतीस कोटि देव देवियाँ...

  • अपूर्ण मकसद !

    अपूर्ण मकसद !

    जिंदगी का मकसद क्या है ? अनादि काल से यह प्रश्न अनुत्तरित खड़ा है, उतर किसी ने न जाना न किसीने इसका उत्तर दिया l क्या खाना ,सोना और फिर मर जाना यही  जीव की नियति...

  • चक्रव्यूह !

    चक्रव्यूह !

      इस जिंदगी का क्या भरोसा कब शाम हो जाय , भरी दोपहरी में कब सूरज डूब जाय …. उम्मीद के पतले  सेतु के सहारे मकड़ी सा  आगे कदम बढ़ा रहे है और खुद के बुने...

  • उत्तर दो हे सारथि !

    उत्तर दो हे सारथि !

    उत्तर दो हे सारथि ! जीवन-संग्राम के मध्यस्थल में इस काया रथ में बैठकर ……, मेरा मन-अर्जुन पूछता है विवेक–सारथि कृष्ण से , हे ज्ञान-सारथि ,सुनो ! मुझमें उठ रहे अनंत,अतृप्त जिज्ञासाओं को, क्या तुम शांत...

  • हक़–ओ-इन्साफ़

    हक़–ओ-इन्साफ़

      क़ाज़ी भी है मजबूर , क़ातिल को बचाना है एक तरफ हक़ हैं , दूसरे हुज़ूरे आला है |   एमाँल-ए-शैतान ने , डुबोयी थी कश्ती मझधार में बच गए कुल्ज़ुमे सरसर  से, रब की...