Author :

  • ग़ज़ल

    ग़ज़ल

    राजाधिराज का गिरा’ दुर्जय कमान है सब जान ले अभी यही’ विधि का विधान है | अद्भूत जीव जानवरों का जहान है नीचे धरा, समीर परे आसमान है | संसार में तमाम चलन है ते’री वजह...

  • ग़ज़ल

    ग़ज़ल

    चनावी दंगलों में स्याह धन की आजमाइश है इसी में रहनुमा के मन वचन की आजमाइश है | सभी नेता किये दावा कि उनकी टोली’ जीतेगी अदालत में अभी तो अभिपतन की आजमाइश है | खड़े...

  • ग़ज़ल

    ग़ज़ल

    जिंदगी तू अब मुहब्बत गुनगुनाना सीख ले हर मुसीबत में सदा तू मुस्कुराना सीख ले | आपदा का आना’ जाना फ़क्त इत्तेफाक है मत डरो आपत्तियों से, डर मिटाना सीख ले | गर तुम्हे कोई डराए,...

  • ग़ज़ल

    ग़ज़ल

    ये जिंदगी तो’ हो गयी’ दूभर कहे बग़ैर आता सदा वही बुरा’ अवसर कहे बग़ैर | बलमा नहीं गया कभी’ बाहर कहे बग़ैर आता कभी नहीं यहाँ’ जाकर कहे बग़ैर | है धर्म कर्म शील सभी...

  • ग़ज़ल

    ग़ज़ल

    हाथ में वही अंगूरी सुरा,पियाला है रहनुमा का’ मन काला, वस्त्र पर उजाला है | छीन ली गई है आजीविका, दिवाला है ढूंढ़ते रहे हैं सब, स्रोत को खँगाला है | आसमान पर जुगनू, चाँद सूर्य...

  • ग़ज़ल

    ग़ज़ल

    अक्सीर दवा भी अभी’ नाकाम बहुत है बेहोश मुझे करने’ मय-ए-जाम बहुत है | वादा किया’ देंगे सभी’ को घर, नहीं’ आशा टूटी है’ कुटी पर मुझे’ आराम बहुत है | प्रासाद विशाल और सुभीता सभी’...

  • (तरही ) ग़ज़ल

    (तरही ) ग़ज़ल

    कभी दुख कभी सुख, दुआ चाहता हूँ इनायत तेरी आजमा चाहता हूँ वफ़ाओं के बदले वफ़ा चाहता हूँ तेरे इश्क की इम्तिहा चाहता हूँ जो भी कोशिशे की हुई सब विफल अब हूँ बेघर मैं अब...

  • ग़ज़ल

    ग़ज़ल

    रूठा रूठा रहता है जानम, कुछ बात बताये तो हम उसे (उन्हें)मनाये कैसे, साजन पास कभी आये तो | है अभिमानी ताकत के मद में, करता केवल मन का धैर्य रखेगा क्या वह गर, कोई उसको...

  • ग़ज़ल

    ग़ज़ल

    इन्तिखाबों में फैसला क्या है देर करने में’ फायदा क्या है | शत्रु नादान बोलते क्या है उनका’ महफूज़ मशवरा क्या है ? देर क्यों है चुनाव राज्यों में घोषणा में मुआमला क्या है | साफ...

  • ग़ज़ल

    ग़ज़ल

    हमारे देश को सुन्दर बनाना है ख़ुशी से इक तराना गुनगुनाना है| अभागा औ धनी अंतर मिटा देना सभी के साथ मिलकर मुस्कुराना है | नई शिक्षा नया पथ का सृजन करना निराश्रय जो उन्हें आश्रय...