Author :

  • खुबसूरत थी वह

    खुबसूरत थी वह

    खूबसूरत थी वह सर से पैर तक नहाई हुई थी दूध से ,उबटन से देखते रहते थे लोग आने जाने वाले कसकते थे पाने को उसको घूमते रहते थे आसपास यूँही । खूबसूरत हसीन चेहरा ऊपर...

  • तलाक़ की मोहर

    तलाक़ की मोहर

    अपने रिश्ते पर तलाक की मोहर लगवा कर कोर्ट से बाहर आये अभिषेक एवं शिखा  और अलग-अलग रास्ते पर चल दिये। ऑटो रिक्शा में बैठी शिखा के दिल-दिमाग में अभिषेक से प्रथम परिचय  से ले कर...

  • सेल्फ मेड

    सेल्फ मेड

    “ये क्या लिख कर लाये हो अक्षत ? ऐसे उत्तर तो तुम्हें नहीं लिखवाये थे मैंने ।” शिक्षिका ने डांटते हुए कहा । ” जी …..मैम …..वो मैं बीमार जो रहा इतने दिनों से , मुझे...


  • विश्व स्तन पान दिवस

    विश्व स्तन पान दिवस

    विश्व स्तन पान दिवस १ अगस्त को विश्व भर में मनाया जाता है , इस दिवस को मनाने का उद्देश्य है कि माताओ को स्तन पान के लिए जागरूक करना | स्तन पान ! जी हाँ...

  • मोबाइल संस्कृति

    मोबाइल संस्कृति

    सन्देश ने अपने पापा से मोबाइल की जिद्द की , उन्होंने बहुत समझाया -” बेटा , अभी तुम बहुत छोटे हो , अभी तो तुम पाँचवी में हो , अभी से मोबाइल का क्या करोगे ?”...

  • आ गया सावन

    आ गया सावन

    लो फिर आ गया है सावन सबका मतवारा यह सावन गीत गायेंगी मिलकर सखियाँ प्रेम से विभोर होंगी अँखियाँ प्रीतम को पुकारेंगी गीतों में खुद को संवारेंगी गीतों में गरजेंगे बादल , बिजली चमकेगी पिया मिलन...

  • डॉ रेखा

    डॉ रेखा

    “ये कहाँ जा रही हो अम्मी ?” पड़ोस वाली महिला ने पूछा “अरे वो अपनी मधु है न उसके घर से खबर आयी है , उसके पेट में दर्द हो रहा है , पेट से है...

  • मूक दर्शक

    मूक दर्शक

    ” बहुत अच्छा करती हो जो अब गोष्ठियों में आने लगी हो , अच्छा लगा आपको यहाँ देखकर । ” एक वरिष्ठ साहित्यकार ने एक महिला से कहा । ” जी नमस्ते सर , नहीं ऐसा...

  • हाइकू

    हाइकू

    हाइकू 1 पैसा बोलता सर चढ़कर है घमण्डी होता । 2 पैसा जरुरी इन्कार तो नहीं है पर कितना 3 खुशियाँ वहीँ पहाड़ों पे मिलती पैसे वालो को 4 सुकून ख़ोजे क़ैद होकर जब हंसता पैसा...