Author :

  • अधूरी मन्नत

    अधूरी मन्नत

    दमयंती की आँखों के सामने चाहे स्वच्छ अनंत आसमान था, मगर उसके मनस्पटल पर घोर काले बादल उमड़-घुमड़ मचा रहे थे. सहसा बिजली सी कौंधी और बादल बरसने लगे. उसका हाथ बरबस ही भीगे हुए गालों...

  • नीम की शीतल हवा

    नीम की शीतल हवा

    ग्रीष्म ऋतु में संगिनी सी, नीम की शीतल हवा। दोपहर में यामिनी सी, नीम की शीतल हवा। झौंसता वैसाख जब, आती अचानक झूमकर सब्ज़ वसना कामिनी सी, नीम की शीतल हवा। ख़ुशबुएँ बिखरा बनाती, खुशनुमाँ पर्यावरण...



  • नम हवा फुलवारियों की

    नम हवा फुलवारियों की

    नम हवा फुलवारियों की खूब भाती है मुझे। नित्य नव भावों भरी कविता सुनाती है मुझे। रात के आगोश में सुख स्वप्न गाते लोरियाँ प्रात प्यारी शबनमी, निस दिन जगाती है मुझे। लाल सूरज जब समंदर...

  • मुझे पीपल बुलाता है

    मुझे पीपल बुलाता है

    प्रखरतम धूप बन राहों में, जब सूरज सताता है। कहीं से दे मुझे आवाज़, तब पीपल बुलाता है। ये न्यायाधीश मेरे गाँव का, अपनी अदालत में सभी दंगे फ़सादों का, पलों में हल सुझाता है। कुमारी...

  • माँ की दुआ

    माँ की दुआ

    ब्रह्म का ब्रह्मांड पर,  उपकारहै माँ की दुआ। दैव्य से हमको मिला,  उपहार है माँ की दुआ। भोग भव के हैं सभी  फीके,  अगर संतान को मिल न पाए जो भुवन का,  सार है माँ की...

  • एक नन्हीं प्यारी चिड़िया

    एक नन्हीं प्यारी चिड़िया

    एक नन्हीं प्यारी चिड़िया, आज देखी बाग में। चोंच से चूज़े को भोजन-कण चुगाती बाग में। काँप जाती थी वो थर-थर, होती जब आहट कोई झाड़ियों के झुंड में खुद को छिपाती बाग में। ढूँढती दाना...

  • जन्म दाता हे पिता तुम

    जन्म दाता हे पिता तुम

    जन्मदाता हे पिता तुम भूमि पर वरदान हो। घर चमन के मुग्ध माली हम गुलों की जान हो। शक्त पालक तुम हमारे मित्र सबसे हो अहम गर्व है तुम पर हमें जीवन की तुम पहचान हो।...