Author :

  • एक नन्हीं प्यारी चिड़िया

    एक नन्हीं प्यारी चिड़िया

    एक नन्हीं प्यारी चिड़िया, आज देखी बाग में। चोंच से चूज़े को भोजन-कण चुगाती बाग में। काँप जाती थी वो थर-थर, होती जब आहट कोई झाड़ियों के झुंड में खुद को छिपाती बाग में। ढूँढती दाना...

  • जन्म दाता हे पिता तुम

    जन्म दाता हे पिता तुम

    जन्मदाता हे पिता तुम भूमि पर वरदान हो। घर चमन के मुग्ध माली हम गुलों की जान हो। शक्त पालक तुम हमारे मित्र सबसे हो अहम गर्व है तुम पर हमें जीवन की तुम पहचान हो।...


  • संकल्पिता

    संकल्पिता

    “माँ, देखो न! जीतू ने फिर से गुलाब का फूल तोड़ लिया, आप उसे मना क्यों नहीं करतीं” “अरे बेटी, वो भगवान् को ही तो चढ़ाता है न…फिर घर में भी कितनी सुगंध बनी रहती है”!...


  • बागों बुलाती है सुबह

    बागों बुलाती है सुबह

    रात पर जय प्राप्त कर जब, जगमगाती है सुबह। किस तरह हारा अँधेरा, कह सुनाती है सुबह। त्याग बिस्तर नित्य तत्पर, एक नव ऊर्जा लिए लुत्फ लेने भोर का, बागों बुलाती है सुबह। कालिमा को काटकर,...


  • अनोखा उपहार

    अनोखा उपहार

    “सुनो नीलू डियर, आज शाम को माँ-पिताजी से मिलने चलना है, मैं जल्दी आऊँगा, तुम तैयार रहना…” कहते हुए आशीष दफ्तर के लिए निकल गया। पति के जाते ही नीलिमा प्रसन्न-मन घर के काम-काज जल्दी-जल्दी निपटाने...

  • कभी तो दिन वो आएगा

    कभी तो दिन वो आएगा

    कभी तो दिन वो आएगा, सभी के अपने घर होंगे। मिलेंगी रोटियाँ सबको, न सपने दर-बदर होंगे। मिलेंगे बाग खेतों से, न होगी बीच में खाई पलायन गाँव छोड़ेंगे, सदय पालक शहर होंगे। रखेंगे रास्ते पक्के,...

  • जब से कर ने गही लेखनी

    जब से कर ने गही लेखनी

    जब से कर ने गही लेखनी शीश तान चल पड़ी लेखनी बिन लाँघे देहरी-दीवारें दुनिया भर से मिली लेखनी खूब शिकंजा कसा झूठ ने मगर न झूठी बनी लेखनी हारे छल-बल, रगड़ एड़ियाँ कभी न लेकिन...