Author :


  • कहानी : मुआवज़ा

    कहानी : मुआवज़ा

    “अरे भाई भोलानाथ कँहा चल दिए इतनी जल्दी में ?” नत्थू ने एक हाथ में रोटी का टिफन दूसरे हाथ में लाठी लिए तेजी से जाते हुए भोलाराम से पूछा । ” राम राम नत्थू भाई...

  • कहानी : वो कौन थी ?

    कहानी : वो कौन थी ?

    ओह! …ब्यूटीफुल! कितना खूबसूरत नजारा है , ऐसा लगता है जैसे मैं किसी और लोक में पहुँच गई हूँ ” वीणा ने ख़ुशी और आश्चर्य से अपनी बड़ी बड़ी आँखों को और बड़ा करते हुए कहा...





  • प्रभु की चिंता

    प्रभु की चिंता

    ” नारायण नारायण …प्रणाम प्रभु” पौराणिक कथाओ में वर्णित तरीके से देवऋषि नारद ने प्रभु के सामने झुक के प्रणाम करते हुए कहा । ” प्रणाम मुनिवर …” प्रभु ने गहरी सांस लेते हुए कहा नारद...