Author :


  • शिशुगीत

    शिशुगीत

    1. चालाक चूहा घर में एक चूहा है आया कुतर-कुतर सब उसने खाया देख-देख सबकी परेशानी पापा लाए चूहेदानी मांँ ने झट से ब्रेड मंँगाया टुकड़ा उसका एक फँसाया चूहेदानी वहीं लगाकर सोये हम कमरे में जाकर...


  • पहेलियाँ

    पहेलियाँ

    1. मीठी-मीठी, पीली गेंद सबको खूब लुभाती फैशन के इस दौर में कई रंगों में आती उत्तर – लड्डू   2. सबकी नकल उतारनेवाला हरा-भरा यह साथी सबके सिर पर जा बैठे यह घर हो या...

  • शिशुगीत

    शिशुगीत

    1.  मुखौटे बंदर, भालू और सियार पुलिस, सिपाही, चौकीदार जो चाहें बन जाएँ आप पहन मुखौटे तो लें यार   2. चश्मा मेले में से चश्मा लाया आँखों पर जब आज चढ़ाया वाह-वाह सबने ही बोला लाल...

  • पहेलियाँ

    पहेलियाँ

    (1) चीनी के बोरे को लूटे धैर्य न थोड़ा इसका टूटे काली, छोटी ये काटे यदि आह-आह मुँह से तब फूटे उत्तर – चींटी   (2) उड़ती लेकिन नहीं ये चिड़िया आफत की छोटी सी पुड़िया...

  • परी आयी

    सोये बच्चों, झट उठ जाओ बिस्तर छोड़ो, बाहर आओ नभ से परी उतर के आयी देखो संग वह क्या-क्या लायी सोने जैसे पंख निराले हाथों जादू छड़ी सम्हाले रंग-बिरंगा पहने चोला गोरा तन, मुखड़ा है भोला...

  • बाल पहेलियाँ

    बाल पहेलियाँ

    1. आसमान में पलते हैं क्षण में घिरते-टलते हैं काले-काले, उजले-उजले पानी लेकर चलते हैं   2. भिगो डालती सबको अक्सर कहीं खुशी तो कहीं दिखे डर बिन मौसम में खेले होली हाँ हम सब हैं...

  • शिशुगीत

    शिशुगीत

    नेता खादी पहने आते नेता सबको हाथ दिखाते नेता करते कम हैं, कहते ज्यादा कुर्सी को लड़ जाते नेता 2. कुर्सी कुर्सी के हैं खेल निराले इसकी खातिर सब मतवाले मुझको भी है कुर्सी प्यारी पढ़ता...

  • पहेलियाँ

    पहेलियाँ

    (१) हरी रसोई समझो इनको खूब पकाते खाना धूप मदद करती है बेहद सत्य सभी ने जाना उत्तर – पत्ते   (२) छिपनेवाली कली नहीं पर मिला अजूबा नाम खाने आती कीट-पतंगे बाकी पल आराम उत्तर...