Author :

  • वानप्रस्थ

    वानप्रस्थ

    गुप्ता जी लॉन में बैठे चाय पी रहे थे तभी टेबलपर एक सूखा, पीला पड़ता पत्ता आ गिरा “क्या हुआ भई? अपनी डाल को छोड़ आए” गुप्ता जी ने पूछा “वहाँ अब नये पत्तों का जमाना...

  • पाप

    पाप

    “अरे मुझे तो कल बिट्टू ने दिखाया कि देखो माँ होनेवाली भाभी की कॉलेज ट्रिप की फोटो फेसबुकपर, उसमें देखा मैंने किसी लड़के के साथ नाच रही थी, ना बाबा मुझे नहीं मंजूर” “ओह्हो जीजी, अब...

  • मक्कू को सबक

    मक्कू को सबक

    शरारती और चटोरा मक्कू चूहा इधर-उधर खाने की तलाश में फिर रहा था। उसे मिर्च-मसालेदार और दूध से बनी चीजें बहुत पसंद आती थीं। तभी पनीर की लुभावनी गंध उसकी नाक में घुसी और वह उसको...


  • ढीट भालू

    ढीट भालू

      बोला भालू शेर से – “शेरू मेरे यार”। काफी दिन हैं हो गये, चलो आज बाजार॥ चलो आज बाजार, घूम-फिर कर घर आयें, पिक्चर-विक्चर देख, समोसे-लड्डू खायें। सुना बिका कल खूब, बर्फ का मीठा गोला,...


  • चिड़िया रानी

    चिड़िया रानी

      चिड़िया रानी, चिड़िया रानी, तुम तो निकली बड़ी सयानी। मेरी बगिया में तुम आई, एक पेड़पर जगह बनाई। मिहनत से मुँह कभी न मोड़ा, तिनका-तिनका तुमने जोड़ा। एक घोंसला वहाँ बनाया, जो हमसब के मन...