कविता

हिन्दी फैल रही दुनिया में -लाल बिहारी लाल

हिन्दी फैल रही दुनिया में *लाल बिहारी लाल हिन्दी हिन्दुस्तान की, रही नहीं अब भाषा फैल रही है दुनिया में, बन जन-जन की आशा हिन्दी हिन्दुस्तान की रही……..   आजादी में फर्ज निभाया, बनके जैसे फौजी दसों दिशा के लोग बने, थे अजब मनमौजी बनी देश की भाषा यह दुनिया की अभिलाषा हिन्दी हिन्दुस्तान की […]

मुक्तक/दोहा

शिक्षक दिवस पर विशेष : गुरु पर कुछ दोहे

बिना गुरु ज्ञान जग में, पा ना पाया कोय। गुरु का जो मान रखा, जग बैरी न होय।1। गुरु को गुरु की तरह, माने आज इंसान। उसका मान जग करे, हरि करे कल्याण।2। गुरु ज्ञान की खान है, ले लो जितनी चाह। भला करे बस हर घड़ी, लाल खुलेगा राह।3। गुरु बिना जग में कुछ […]

गीत/नवगीत

राष्ट्रीय गीत- हमारा हिन्दुस्तान

  हमारा हिन्दुस्तान,प्यारा हिन्दुस्तान देश के खातिर हो जरुरत,हो जायें कुर्बान हमारा हिन्दुस्तान,प्यारा हिन्दुस्तान……   मूल्ला-पंडित की छोड़ें बातें,मन से आज ये कसमें खा अब ना दूरी और बढ़ाओं, आओं आज गले लग जा भूल के हर शिकवा बढ़ा दे ,देश की अपनी शान हमारा हिन्दुस्तान,प्यारा हिन्दुस्तान……   गैर नहीं है सब है एक,आपस में […]

गीत/नवगीत

गीत- आजादी का जश्न मनायें

आजादी का जश्न मनायेंं, आओं मिकर हम और आप इसे अच्छून बनाये आज, आओं मिलकर हम और आप आजादी का जश्न मनायेंं………..   कहीं गोला कहीं बम चले  थें कितनों के ही दम निकले थे जब जाँ संग हुये आजाद,हम और आप आजादी का जश्न मनायें………..   नियम कानून सब ध्वस्त हो गये जो जागे […]

गीत/नवगीत

गीत : कण-कण में महके चंदन

कण-कण में महके चंदन वो देश है हमारा सारे जहां से अच्छा हिनदोस्तां हमारा कण-कण में महके चंदन…………… हिन्दू हो चाहे मुस्लिम या सिख-ईसाई आपस में हम सभी है जस मानों भाई-भाई मिलो देखने को अदभूत यहां भाईचारा सारे जहां से अच्छा……………….. अनेकता में एकता का है अजब मिशाल गांधी,राजेन्द्र नेहरु ने जलायी थी मशाल […]

गीत/नवगीत

गीत : डर लागे राम जी

अब तो बहुत डर लागे मोहे राम जी छिन रहा युवाओं से सब काम-धाम जी अब तो बहुत डर………………….. सब कुछ महंगा अब हो रहा देश में आम जन-जन अब जी रहा क्लेष में घोटालों का देश अब रख दो नाम जी अब तो बहुत डर………………….. ये कर,वो कर ले के सब खा रहे सब्सिडी […]