कविता

एक और कवि सम्मेलन

जेमिनी अकादमी, पानीपत द्वारा स्वामी विवेकानद जयंती के अवसर पर 12 जनवरी 2021 को एक ऑनलाइन कवि सम्मेलन आयोजित किया गया, जिसमें अनेक कवियों-कवयित्रियों ने सोत्साह प्रतिभागिता की. विषय था- स्वामी विवेकानद जयंती. इसमें हमने भी प्रतिभागिता की थी और निम्न कविता भेजी- 12 जनवरी, 2021 विधा- कविता शीर्षक- जाग युवा जाग जाग युवा जाग […]

कविता

विश्व हिंदी दिवस कवि सम्मेलन

जेमिनी अकादमी, पानीपत द्वारा विश्व हिंदी दिवस के अवसर पर 10 जनवरी 2021 को एक ऑनलाइन कवि सम्मेलन आयोजित किया गया, जिसमें अनेक कवियों-कवयित्रियों ने सोत्साह प्रतिभागिता की. विषय था- मन की भाषा हिंदी. हमने भी प्रतिभागिता की थी और निम्न कविता भेजी- हमारी हिंदी कोटि-कोटि कंठों से गूंजी, हिंदी की नव कोकिल तान, इस हिंदी […]

मुक्तक/दोहा

दिलखुश जुगलबंदी- 36

अतुलित सुख और आनंद हैं वहां खुशियों का आज लगा है मेला, समय है बड़ा अलबेला, फलो-फूलो,कामयाबी सदा मिले, आनंद से बीते हर पल सुहेला. दुआओं का सिलसिला बस आज ही क्यों, खुशियाँ सबको ताउम्र मिलती रहें, हर रोज दुआएं देना आपकी इनायत है, यही तो सबसे खूबसूरत इबादत है! रोम रोम आपके दीवाने हुए, […]

कविता

पाठक की कलम से- 4

न टपका कोई गगन से रात अंधेरी थी भयानक गुज़ारिश में थे सुबह की, बैठ गया था दिल चाहिए थी लौ नई आशा उमंग की।। फटी सिंदुरा निकला सूरज भगवा जीवन किरणों के साथ, भय की सरिता को सुखाया देख हमने जोड़े हाथ।। आशा की किरणों ने प्रकाश डाला नई उम्मीदों पे, जान आयी बेजान […]

धर्म-संस्कृति-अध्यात्म

विशेष सदाबहार कैलेंडर- 169

हार्दिक आभार सहित रविंदर भाई की कलम से- 1.प्रेम की धारा बहती है जिस दिल में, चर्चा उसकी होती है हर महफ़िल में. 2.बहुत कुछ सिखाया ज़िंदगी के सफर ने अनजाने में, वो किताबों में दर्ज था ही नहीं, जो पढ़ाया सबक जमाने ने. 3.हर एक लिखी हुई बात को हर एक पढ़ने वाला नहीं […]

अन्य लेख

विचार विमर्श- 10

इस शृंखला के इस भाग में कुछ विचार होंगे और उन पर हमारा विमर्श होगा. आप भी कामेंट्स में अपनी राय लिख सकते हैं- 1.क्या एक असफलता से सब कुछ समाप्त हो जाता है? “असफलता, सफ़लता तक पहुँचने का पहला कदम है”. इस दुनिया में शायद ही कोई व्यक्ति ऐसा होगा, जो कि बिना किसी […]

लघुकथा

देहदान

परिवार की पुरानी एलबम देखते-देखते अचानक दादी-दादा जी की खुद द्वारा खींची गई एक तस्वीर देखकर मनीषा अतीत की विस्मृतियों में खो-सी गई. ”कितनी प्यारी लग रही है दादी-दादा जी की यह जोड़ी! जीवन की सांध्य-वेला में सिडनी की सांध्य-वेला के चांद को निहारते हुए, लिए हाथों में हाथ, निभाते हुए एक दूसरे का साथ.” […]

अन्य लेख

रोड शो- 23 : बातें अद्भुत सुर्खियों की

आज बातें अद्भुत सुर्खियों की करते हैं. पहले कुछ बातें कोरोना की- Corona News Update : नए साल पर अच्छी खबर, देश में दम तोड़ रहा है कोरोना, 6 महीने में सबसे कम केस कोरोना वायरस के नए स्‍ट्रेन की भारत में एंट्री, जानें कुछ एक्‍सपर्ट्स इसे क्‍यों बता रहे गुड न्‍यूज? अलग-अलग स्‍टडीज के […]

गीत/नवगीत ब्लॉग/परिचर्चा

सदाबहार काव्यालय: तीसरा संकलन- 25

जसवंत सिंह की अमर कहानी (गीत) सुनो सुनो ऐ दुनियावालो जसवंत सिंह की अमर कहानी कभी न देखा-सुना किसी ने ऐसा रणबांका बलिदानी- 1.उत्तराखंड के ग्राम-बाड्यूं ने ऐसे वीर को जन्म दिया, 19 अगस्त 1941 को जसवंत सिंह ने धन्य किया, देशप्रेम की लगी लगन तो सेना की ओर रुख किया, सेना ने भी सेनानी […]

गीत/नवगीत

बदलता साल- दो काव्य-रचनाएं

बदलता साल- दो काव्य-रचनाएं 1.अलविदा सखे! अलविदा सखे! अलविदा सखे! अलविदा, अलविदा, 2020 सखे! कहलाए तुम भले ही ट्वेंटी-ट्वेंटी, पर लंबे बहुत ही लगे सखे! लंबा तो तुम्हें होना ही था! तुम सबसे अलग जो थे! हर साल साथ में लाता है नई खुशियां, तुम महामारी लाने वाले जो थे! महामारी के साथ आया दुखों […]