Author :


  • आत्मविश्वास

    आत्मविश्वास

    आज सात्त्विका बहुत ही खुश थी. उसके चित्र को प्रथम पुरस्कार से जो नवाजा गया था. उसे भानजे ऋत्विक के साथ हुई गुफ़्तगू याद आ रही थी. ”मौसी जी, आप तो ऑस्ट्रेलिया से अभी आने वाली...


  • हौसला बुलंदी

    हौसला बुलंदी

    गजनवी के 17 हमले झेलकर भी खड़ा है सोमनाथ मंदिर. यह सोमनाथ मंदिर की हौसला बुलंदी है. ‘चुनाव वीर’ चायवाले का 22 बार शिकस्त झेलने के बावजूद ‘चायवाले’ का नहीं टूटा हौसला. वे फिर मध्य प्रदेश...

  • दिलखुश जुगलबंदी-13

    दिलखुश जुगलबंदी-13

    सबसे पहले हमें ही जागरुक होना होगा जुगलबंदी के गुलशन में रंगबिरंगे कुसुम खिलने लगे सूर्य की सहस्र रश्मियां पंखुड़ियों को चूमने लगीं ज्ञान का सौरभ फिज़ा में इत्र सा घुलने लगा मंद मंद पवन संग...

  • अभिशप्त

    अभिशप्त

    ”मैं नादान हो गया हूं या इंसान!” बिगड़े बोलों वाले अग्निपथ पर चलने वाले इंसानों को देखकर आज के समय का खुद से सवाल था. ”इसे नादान कहना चाहिए या असभ्य?” समय का मंथन जारी था....

  • दिलखुश जुगलबंदी-12

    दिलखुश जुगलबंदी-12

    दोस्त इसे इबादत समझता है दोस्त दोस्त नहीं खुदा होता है, महसूस होता है जब वो जुदा होता है, बिना दोस्त जीवन सजा होता है, और दोस्त जैसा हो तो जीवन में मजा-ही-मजा होता है. दोस्ती...

  • खूबसूरत संघर्ष

    खूबसूरत संघर्ष

    संघर्ष भी खूबसूरत होता है, यह मुझे पता नहीं था. वह तो सपने में एक कलाकृति देखी, जिसमें बड़े-से कठोर पत्थर से बंधी एक खूबसूरत तितली को बहुत खूबसूरती से सीढ़ियों पर चढ़ने के लिए संघर्ष...


  • महासंग्राम

    महासंग्राम

    सुबह-सुबह मोबाइल पर सुप्रभात-संदेश देखते हुए शैफ जैसी टोपी लगाए महा आधुनिक-से दिखने वाले एक किशोर के चित्र ने मुग्धा को मुग्ध कर दिया. चित्र क्या था, सोच का महासंग्राम था. मुग्धा खुद सोच में पड़...