Author :


  • ममत्व

    ममत्व

    ममता की भावना-संवेदना की महत्ता के बारे मे तो हम बचपन से बहुत कुछ सुनते-देखते आए हैं, लेकिन ममत्व इतना शक्तिशाली भी हो सकता है, यह पहली बार जानने को मिला. ब्रेन इंजरी के बाद जब...

  • रोशनी का दान

    रोशनी का दान

    हमारे बड़े कह गए हैं- दानों में दान रोशनी का दान. इस बात को महाराष्ट्र के इलेक्ट्रिसिटी डिस्ट्रिब्यूशन कॉर्पोरेशन लिमिडेट (एमएसईडीसीएल) के कर्मचारियों ने समझा और रोशनी का दान करके बहुत ही सराहनीय कार्य किया है....

  • आए बादल

    आए बादल

    वक्त से पहले आए बादल खुलकर बरस न पाए बादल- जी भर बादल देख न पाए जाने किधर गुम हो गए बादल मन-मयूर आतुर था नृत्य को नृत्य देख न पाए बादल वक्त से पहले आए...

  • जन्मदिन की शुभकामनाएं

    जन्मदिन की शुभकामनाएं

    ”इमोजी-इमोजी” तुम बोलते क्यों नहीं हो?” मेरा सवाल था. ”यही न बोलना ही तो मेरी विशेषता मानी जाती है न!” इमोजी ने विवश होकर फरमाया. ”मतलब?” ”मेसेंजिग ऐप इस्तेमाल करने वाला तकरीबन हर व्यक्ति हमारा यानी...


  • गठबंधन के आंसू

    गठबंधन के आंसू

    आंसू  कई तरह के देखे-सुने-भोगे हैं खुशी के आंसू ग़म के आंसू तनहाई के आंसू जमहाई के आंसू हास-परिहास के आंसू उदासी के आंसू घड़ियाली आंसू महंगाई के आंसू ईर्ष्या के आंसू प्याज के आंसू आंखों...

  • सुनहरा सपना

    सुनहरा सपना

    ‘मैं एक सपना जी रही हूं’. ये शब्द हैं 18 वर्षीय हिमा दास के, जो फिनलैंड में आईएएएफ विश्व अंडर-20 ऐथलेटिक्स चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीतकर देशवासियों की आंख का तारा बन गईं. ऐथलेटिक्स में गोल्ड...

  • सियासी रंग

    सियासी रंग

    तुम मुझे मां मानते हो, तो मुझे सियासी रंग में क्यों रंग रहे हो?”  ”सियासी रंग? अरे क्या तुम नहीं जानती हो, यह तो हमारे देश के झंडे के रंग हैं!”  ”मैं सब जानती हूं, तुम्में...

  • संघर्ष से उपलब्धि तक

    संघर्ष से उपलब्धि तक

    आज बिरेन कुमार बसाक ‘बिरेन बसाक एंड कंपनी’ के मालिक बन गए हैं, लेकिन हमेशा से ऐसा नहीं था. इसे बिरेन कुमार बसाक के जीवन की सफलता की कहानी कहें या संघर्ष के बाद उपलब्धि की...