Author :

  • तुमने ही सिखलाया

    तुमने ही सिखलाया

    सेवा करना सदा सभी की, तुमने ही सिखलाया बापू। दीन जनों को गले लगाना, तुमने ही सिखलाया बापू॥ बुरा न बोलो, बुरा न देखो, बुरा न सुनो बताया बापू। तन-मन-धन से हिंसा छोड़ो, तुमने ही सिखलाया...

  • एक प्रतिज्ञा

    एक प्रतिज्ञा

    एक प्रतिज्ञा आज करें हम, मिलकर कदम बढ़ाएंगे, कड़वे सच से दूर रहें हम, झूठ कभी नहीं मुख से बोलें.   एक प्रतिज्ञा आज करें हम, कुसंगति से दूर रहें, सुसंगति से नाता जोड़ें, औरों का...

  • नाम की धुन दीजिए

    नाम की धुन दीजिए

    प्रिय बच्चो, जय हिंद, कविता लिखना सीखने के इस क्रम में हम आपको अनेक विषयों पर कविता लिखना सिखाते हैं. कविता लिखना सीखते-सीखते आपको लगभग एक साल होने को आया है. आशा है अब आप परिपक्वता...

  • डोर समय की थामना

    डोर समय की थामना

    आज है तम तू सूरज बनके, करले उसका सामना, वीरता से आगे बढ़कर, डोर समय की थामना- समय कभी रुकता ही नहीं है, समय कभी भी झुके नहीं, कैसा वीर सपूत है वह जो, डर रोड़ों...

  • नया निर्माण

    नया निर्माण

    नया-नया निर्माण हो अपना, विश्व नया इक सुंदर हो ग़ैर न जिसमें कोई लगता, वैर न किसके मन में हो- बहुत बनाए हमने पुल जो, नदियों को ही जोड़ सकें, बहुत बनाए ऐसे रस्ते, जो गांवों...


  • जय हिंदी, जय भारत

    जय हिंदी, जय भारत

    प्रिय बच्चो, जय हिंदी, जय भारत, कविता लिखना सीखने के इस क्रम में हम आपको अनेक विषयों पर कविता लिखना सिखाते हैं. आज हिंदी दिवस है. आप जानते हैं, कि 15 अगस्त 1947 को देश आजाद...

  • आई-आई है मेरे अंगनवा

    आई-आई है मेरे अंगनवा

    आई-आई है मेरे अंगनवा, मुरलीवाले की प्यारी सवारी अब तो डंका बजाके कहूंगी, महकी किस्मत की प्यारी फुलवारी- कभी चलते थे मेरे आगे-आगे, मुझे रस्ता दिखाते बनवारी उनकी ऐसी अदा पे बलिहारी, महकी किस्मत की प्यारी...


  • सम्पूर्ण गणेशोत्सव

    सम्पूर्ण गणेशोत्सव

    गणेशोत्सव के सभी अवसरों के लिए स्वरचित भजनों पर आधारित काव्य रूपक गणपति बप्पा मोरिया, मंगल मूर्त्ति मोरिया 1.प्रतीक्षा गणदेवा आएंगे, खुशियों ने खबर दी है सब काम बनाएंगे, खुशियों ने खबर दी है- 1.जीवन की...