Author :

  • सूरज दादा

    सूरज दादा

    ”सूरज दादा, सूरज दादा, कहो चमकते कैसे हो? युगों-युगों से पलक न झपकी, फिर भी दमकते कैसे हो? कौन-सी गैस से मिले रोशनी, कौन-से पंप से देते हो? कौन तुम्हें ईंधन देता है, कैसे तुम ले...

  • जन-जन का सहकार-3

    जन-जन का सहकार-3

    जन-जन का जब हो सहकार, मिल सकता आनंद-उपहार. साथी हाथ बढ़ाना, साथी हाथ बढ़ाना  एक अकेला थक जायेगा मिल कर बोझ उठाना  साथी हाथ बढ़ाना———- इसी हाथ बढ़ाने का दूसरा नाम है- जन-जन का सहकार. जन-जन...


  • ‘रुक जाना नहीं’: एक शानदार पहल

    ‘रुक जाना नहीं’: एक शानदार पहल

    रुक जाना नहीं तू कहीं हार के कांटों से चलके मिलेंगे साये बहार के. 1974 की फिल्म इम्तिहान का यह लोकप्रिय गीत बहुत खूबसूरत और प्रेरणादायक है. इसी गीत से प्रेरणा लेकर मध्य प्रदेश में माध्यमिक...

  • करवट

    करवट

    कभी एक कहावत सुना करते थे- ”देखें ऊंट किस करवट बैठेगा?” आजकल न तो यह कहावत सुनाई देती है, न ही ऊंट दिखाई देते हैं. ऊंट दिखाई भी कहां से देंगे? ऊंट तो रेत पर चलते...

  • सुर संगम (नर्सरी गीत नाटिका)

    सुर संगम (नर्सरी गीत नाटिका)

    प्रस्तुतकर्त्ता- छोटा-सा खरगोश नताशा, पेश हुआ ले एक तमाशा, सुनो-सुनो हे प्रिय श्रोताओं, प्रिय बहिनों और प्रिय भ्राताओं. खरगोश- आज खुशी का दिन है आया, जंगल में मंगल है छाया, ताल-वाद्य का होगा संगम, सबका ही...

  • जन-जन का सहकार-1

    जन-जन का सहकार-1

    जन-जन का जब हो सहकार, मिल सकता आनंद-उपहार. आप और हम इस बात पर तो सहमत ही होंगे, कि सरकार को अगर जन-जन का सहकार मिल जाए, तो हम आनंद का उपहार पा सकते हैं. अब...


  • ममता की छांव

    ममता की छांव

     गरीब किसान ठीक होकर घर आ गया था. उसकी मां ने उसकी आरती उतारकर पलंग पर बिठाया. गांववालों का धन्यवाद करके उसने बेटे को आराम करने के लिए लिटाकर कमरा बंद कर दिया. वह खुद सबके...

  • प्रोत्साहन

    प्रोत्साहन

    10वीं बोर्ड में बहुत अच्छे नंबरों से पास होने वाले अपने बेटे की खुशी में सागर के सागर एक पार्टी का आयोजन कर रहे थे. आयोजन करते-करते उनको पिछले साल की पार्टी की याद आ गई....