Author :

  • छंद -“पद्धरि”

    छंद -“पद्धरि”

    छंद -“पद्धरि”(पदपादाकुलक की उपजाति)*शिल्प विधान – मात्रा भार =16, आरम्भ में गुरु अनिवार्य *पदपादाकुलक चौपाई में चार चौकल बनते हैं तभी लय सटीक आती है । *अंत में 121 ( जगण) हो पावन मनभावन उद्यान। हरियाली...

  • छन्द- वाचिक गंगोदक

    छन्द- वाचिक गंगोदक

    (40 मात्रा, क्रमागत दो-दो चरण तुकान्त, मापनीयुक्त मात्रिक) मापनी – 212 212 212 212, 212 212 212 212, अथवा – गालगा गालगा गालगा गालगा गालगा गालगा गालगा गालगा, चीन का दाँव ही पाक की ढाल है,...


  • “कुंडलिया”

    “कुंडलिया”

    पाती प्रेम की लिख रहे, चित्र शब्द ले हाथ। अति सुंदरता भर दिये, हरि अनाथ के नाथ।। हरि अनाथ के नाथ, साथ तरु विचरत प्राणी। सकल जगत परिवार, मानते पशु बिनु वाणी।। कह गौतम कविराय, सुनो...

  • “मुक्तक”

    “मुक्तक”

    मुक्तक तेरे चार गुण, कहन-शमन मन भाव। चाहत माफक मापनी, मानव मान सुभाव। चित प्रकृति शोभा अयन, वदन केश शृंगार- समतुक हर पद साथ में, तीजा कदम दुराव॥-1 यति गति पद निर्वाह कर, छंद-अछन्द विधान। अतिशय...

  • “कुंडलिया”

    “कुंडलिया”

    भरता नृत्य मयूर मन, ललक पुलक कर बाग फहराए उस पंख को, जिसमें रंग व राग जिसमे रंग व राग, ढ़ेल मुसुकाए तकि-तकि हो जाता है चूर, नूर झकझोरत थकि-थकि कह गौतम कविराय, अदाकारी सुख करता...

  • “पिरामिड”

    “पिरामिड”

    ये मौन विरोध द्वंद क्रोध प्रत्यारोपन आत्म विलोपन मैल पे उबटन॥-1 क्या इच्छा अर्पण प्रतीकार प्रतिद्वंदिता मन आतुरता लाये निखालिसता॥-2 महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी परिचय - महातम मिश्र शीर्षक- महातम मिश्रा के मन की आवाज जन्म...

  • “गीतिका”

    “गीतिका”

    छंद – दिग्पाल /मृदुगति (मापनी युक्त मात्रिक छंद )मापनी -221 2122 , 221 2122 मौसम बहुत सुहाना, मन को लुभा रहा है डाली झुकी लचककर, फल फूल छा रहा है मानों गरम हवा यह, गेसू सुखा...

  • “गीतिका”

    “गीतिका”

    छंद ‘’वाचिक स्रिग्वणी’’ मापनी- 212 212 212 212,पदांत- लिए, समांत- आरे जा रहे हो किधर दर्द सारे लिए छोड़ जाओ दवा है हमारे लिए सह न पाती सहुलियत इस मर्ज को खिल सकी क्या शमा भग्न...

  • “कुंडलिया”

    “कुंडलिया”

    मौसम होता प्रौढ़ है, कर लेता पहचान चलती पथ पर सायकल, डगर कहाँ अनजान डगर कहां अनजान, बचपनी साथी राहें संग मुलायम भाव, लौह से लड़ती चाहें कह गौतम कविराय, प्यार तो जीवन सौ सम चक्र...