कविता

सशक्त महिलाएं

आज का अखबार आया फरफराता आज का अखबार मुख पृष्ठ पर छाए थे प्यारी बेटियों के स्वर बारम्बार सी बी एस ई हो या आई ए एस महिलाओं की ही थी ललकार आया फरफराता आज का अखबार पहली उड़ान भरी स्पेस में कल्पना चावला का था अभियान सुनीता विलियम्स ने कर डाला , एक नया […]

कहानी

कहानी “जनरल वार्ड”

दुर्गम पर्वतीय गांव में अस्पताल की भव्य इमारत बनी थी। पोर्च से होते हुए आपातकालीन वार्ड तक एम्बुलेंस और कार अन्दर तक जा सकती थी। आगे एक खुला स्थान था, जिसे धूप, वर्षा और बर्फ से बचाने के लिए अस्थायी छत बना दी थी। प्रायः मरीजों के साथ आए परिजन यहीं बैठ कर प्रतीक्षा करते […]

लघुकथा

यशोदा

डोरबैल बजते ही मैने दरवाजा खोला सामने मुश्किल से दो महीने के बच्चे को गोद में लिए मेरे घर में काम की सहायिका यशोदा खड़ी थी। मैं हतप्रभ सी देखती रही और उसे अन्दर आने को कहा। मैने एकदम पूछा , अरे यह किसके बच्चे को लेकर आई हो। इतना छोटा और मुझे तो यह […]

लघुकथा

फूलों की बात

साधना के कमरे से शास्त्रीय संगीत की स्वर लहरियां वातावरण को आनन्दमय बना रही थीं। मैं उसमें डूब कर मानों किसी अन्य ही लोक में विचरण कर रही थी। अचानक आवाज बन्द हो गई, इस व्यवधान ने मेरी तंद्रा भंग कर दी। साधना बहुत उदास लग रही थी, मुझे देखते ही बोल पड़ी, इस लाकडाउन […]

कविता

कोरोना से कर लें दो-दो हाथ

मत डराओ हमें यह कह कर आया कोरोना वायरस सावधान हो जाओ सब पर, हम सब हैं तैयार कोरोना से करने दो दो हाथ मुँह पर मास्क,सोशल डिस्टेंसिंग का रखें ख्याल घर के अन्दर रहें बच्चों बुजुर्गों का रखें ध्यान बार बार धो लें अपने हाथ कोरोना से करने हैं अब दो-दो हाथ । लाकडाऊन […]