Author :



  • अरमानों का खून

    अरमानों का खून

    सच पूछो तो भगत सिंह तेरे अरमानों का खून हुआ है तेरे बलिदान को अनदेखा किया है तेरे खून के कतरा-कतरा को नीलाम किया है | आजाद हिंदुस्तान के नेताजी ने आजादी को खूब भुनाया स्विस...

  • घाटी नर्क बनाकर

    घाटी नर्क बनाकर

    घाटी नर्क बनाकर दिल्ली बैठी पहन चूडियाँ किन्नर रोना रोती है | सिंहों के जिस्म कुत्ते नोच-नोच खाते शौर्य-वीरता के सम्मुख दीवार बना कानून राजनीति बंदूकों के मुख ताले लगवाती है | देखो कैसे स्वार्थवश दिल्ली...

  • कोमल बेटियाँ

    कोमल बेटियाँ

    फूलों सी, कलियों सी कोमल बेटियाँ, माँ का प्यार, पिता की इज्ज़त बेटियाँ कुल की शान, अभिमान की पगड़ी बेटियाँ, घर-परिवार की आन, मान, शान,जान बेटियाँ सीता, सावित्री, दुर्गा सी होती वीरांगना बेटियाँ, आज जीत कर...




  • मानवता के भाव

    मानवता के भाव

    जगाओ हृदय में मानवता के भाव जीवन में फैल जायेगा मनोहर स्वर्णिम उजाला छलकेगा आनंद का अमृत प्याला| मिटाकर स्वार्थ अपना-अपना जीवन में सच्चा श्रृंगार रचा लो मिलेगा ईश्वरीय उपहार तुम करो हर प्राणी से प्यार|...

  • सैनिको! आगे बढ़ो

    सैनिको! आगे बढ़ो

    जागो-जागो वीर जवान तुम्हीं  हो  देश की शान शत्रु पर करो तेज प्रहार निश्चित शत्रु की हो हार समझौते  की बात न करना क्षमादान सा काम न करना शत्रु बड़ा नीच पल्टी मारेगा भारतभू जीतकर भी...