Author :



  • योग की महिमा

    योग की महिमा

    जिस ध्यान मार्ग पर चलकर शंभू महादेव कहलाएं, जिस योग ज्ञान के बल पर मुरलीधर ने गीता के सार सुनाएं। जिस पथ पर चलकर योगी पुरुष से महापुरुष बन जाए, जिस ज्ञान के बल पर भारत...



  • बांध मुझे वह राखी तू

    बांध मुझे वह राखी तू

    बांध मुझे वह राखी तू कर्मपथ पर बढ़ता जाऊं। अपने विजय पताका से कुल का मैं सम्मान बढ़ाऊं। बांध मुझे वह राखी तू जिससे अभेद शक्ति पाऊं। जग की हर स्त्री का सदा ही मैं सम्मान...

  • शिक्षक दिवस की प्रासंगिकता

    शिक्षक दिवस की प्रासंगिकता

    भारत परंपराओं का देश है और इन परंपराओं के बीच गुरु-शिष्य की परंपरा हमारे देश की एक बहुत पुरानी तथा सर्वमान्य परंपरा है. प्राचीन काल से ही भारत गुरु-शिष्य की इस परंपरा को लेकर पूरे विश्व...


  • नेतागिरी

    नेतागिरी

    चलो जीत गए हो तुम और हार गए अब हम। देखो मुहब्बत का वो अफसाना भी कहीं हो गया है गुम। तुम्हारी जीतने की जिद्द ने हमें हर बार हराया है। हम अच्छे-भले इंसानों को कट्टरपंथ...

  • तुम बिन

    तुम बिन

    अधूरा हूं तुम बिन पर उम्मीद है तुम एक दिन आओगी कहीं से अचानक आकर मुझसे टकराओगी। जानोगी मेरा हाल और मुझे देख मुस्कुराओगी शायद उस दिन तुम न चाहते हुए भी मेरी बन जाओगी। मेरा...