कविता

प्यारी बदरी

प्यारी बदरी जरा धीरे बरस तू मेघा रानी हमें मुश्किल में डाले तेरा पानी । घर पे छत तो है बस नाम की पर ए है नहीं किसी काम की । धरा पे जो जल मेघा तू बरसाए तेरा बरसता वो जल हमें सताए । जब तू गरज गरज के गुस्से में आए तेरा वो […]

कविता

तुम जो आंसू बहाओगी

तुम जो आंसू बहाओगी मेरा मन कचोटता रह जाएगा मां तुम जो आंसू बहाओगी । वह खुदा भी मुझसे रुठेगा मां तुम जो ना मुस्कुराओगी । खुदा खुद तेरी भक्ति करता है वह तेरी चरणों को सजदा करता है । तेरे बिन न पूरा कर सकता वो संसार मां,कब तक यह बात सबसे छूपाओगी । […]

कविता

थोड़ी खुशीयां उधार दे दे तू

थोड़ी खुशीयां उधार दे दे तू मुझे थोड़ी खुशीयां उधार दे दे तू जो तेरे जग को मैं प्यार से भर दूं । हर चेहरे पे मुस्कान सजाके सभी के दिलों से नफरत मिटा दूं ।। किसी मां के आंसू ना आंखों में सूख जाए कोई बाप बुढ़ापे में ना अकेला रह जाए । कहीं […]

कविता

देख तमाशा कुर्सी का

जो ना कुछ कर पाए जग में वो बन बैठे नेता हैं । किस्मत फूटी अपनी यारा लूजर आज विजेता है । पाने को कुर्सी नेताजी कर जाएंगे कुछ भी । भाई से भाई लड़ा देंगे हर ओर ये आग लगा देंगे । “कुर्सी”तू अलबेली दुनीया में नहीं कहीं कोई तुझ सी । मंदिर मस्जिद […]

कविता

कविता- अजगर

देखो खो चुके हैं कुछ नेता कैसे अपना ईमान-धरम सत्ता के लिए तो बेच डालेंगे ए अपना ही वतन । कुर्सी की ऐसी लालच है कि सब बन बैठे धृतराष्ट्र हैं इनके चक्कर में देखो मुश्किल में हिन्दराष्ट्र है ।।     भारत माता के आंसु देखो कैसे है बह रही देश की एकता को भी […]

कविता

कविता- जो मैं पंछी होता

न होती कोई सीमा न होता कोई बंधन । मैं उड़के पल में चला जाता जहां कहता मेरा पागल मन ।। नदीयों का जल मैं पीता हवाओं में उड़ता फिरता । कभी बादलों को छूने को मैं नील गगन में उड़ता ।। पेड़ों पे बैठ मैं ताजे फलों को खाता ऊंचे पाहाड़ों पे अपना घर […]