Author :

  • दोस्त

    दोस्त

      मेरे लब की मुस्कुराहट पर वो मेरे आँशु पहचान लेता है। दबे है मन मे जो अल्फाज,उनकी आवाज वो जान लेता है।। मुझे कभी मालूम ना था जिस्म पर कितने खंजर लगे है मेरे। बस...

  • आईना

    आईना

      कुछ जीवन के लम्हे लिखे,कुछ जीवन के लम्हे खो गए। चंद बाते पन्नो पर लिखी , चंद मन के कोनो में खो गयी।। वो जो लम्हे कहीं खो गए है,बस वही तो जीवन था। बेशक...

  • सब्जीवाला कहाँ गया

    सब्जीवाला कहाँ गया

    एक बड़े शहर की पॉश कॉलोनी में बनवारी नाम का सब्जी वाला लगातार सब्जियां भेजने के लिए एक आता था। यह सब्जी वाला काफी समय से यहां पर सब्जियां दे रहा है और उसका संबंध वहां...

  • मील का पत्थर

    मील का पत्थर

    गुजर गया तूफान भी , पर उसे हिला ना पाया। मील के पत्थर ने हमेशा अपना फर्ज निभाया।। रहा स्थिर , कभी भी हिला नही अपनी जगह से, बिना बोले,हमेशा लोगो को सही रास्ता दिखलाया।। सही...

  • हर पल घटता जीवन

    हर पल घटता जीवन

    बून्द-बून्द सी टपक रही है जिंदगी। हर पल हर दम रिश रही है जिंदगी। चट्टानों सा खुद को समझने वालों, छोटे कंकरों में बिखर रही है जिंदगी। रिश्तों का बांध टूट कर बह रहा है। शैलाबो...

  • लोग आजकल

    लोग आजकल

    आग की लपटों के नीचे एक राख सी है। बर्फ पिघल रही है मगर एक भाप सी हैं।। यूं तो रोशनी हर तरफ उजाला फैलाती हैं । लेकिन लोगो के खुले जख्मो को दिखाती है।। माना...

  • मन निशब्द

    मन निशब्द

    मौन हुए शब्द,कलम भी निशब्द है। अंतरात्मा क्षुब्द,दिमाग भी ध्वस्त है।। मन की चीख़ों की मन मे मौत हो गयी। दिल की अग्नि लगभग शिथिल हो गयी।। जिज्ञासाओ का यौवन भी प्रौढ़ हो गया। बनते जहाँ...

  • दहेज के बदलता रूप

    दहेज के बदलता रूप

    प्रिया एक समझदार लड़की है,जो बचपन से एक ऐसे माहौल में पली बढ़ी है जहां पर उसने हमेशा अपने बड़े बुजुर्गों और माँ बाप का आदर सम्मान किया है और अपने माँ बाप की सारी बाते...

  • पिता

    पिता

    शाम ढले वो कुछ अलकसाया सा था। दिन भर की थकन से मुरझाया सा था।। अजीब सी बेचैनी चेहरे पर तैर रही थी उसके। जिम्मेदारियों से वो कभी ना घबराया था।। आज एक तरफ ही उसका...

  • वो हमारा पहला टेलीविज़न

    वो हमारा पहला टेलीविज़न

    वर्ष 1985 जब मैंने अपनी चौथी क्लास से पांचवी क्लास में प्रवेश किया।तकरीबन अप्रैल में हमारे परिवार के लिए एक बड़ी खुशखबरी की बात रही,जब हमारे घर में पहला ब्लैक एंड वाइट टेलीविजन आया। वेस्टन कंपनी...