Author :

  • युवा

    युवा

    देश के लिए कुछ करना है हम युवा ने यह ठाना है कड़कती धूप हो या चमकती बिजलीयाँ अपना कदम नही रोकना है रास्ते मे आये अड़चने हजार दुश्मन करे गोलियो की बौछार भारती माँ के...


  • डायरी

    डायरी

    आज डायरी पलटते हुये कुछ यूँ मिले सुर्ख गुलाब के फूल जैसे मुझसे कुछ कह रहें हों भूला दी सभी यादें मगर इसे कैसे भूला पाओगी याद आज भी कही न कही जिंदा है किसी रुप...

  • ये सावन

    ये सावन

    ये सावन की बारिश और तुम्हारा प्यार दोनो ही मेरे अंतर्मन को भिगो देते है मिल.जाती.है.ठंढक कुछ पल ही सही खो सी जाती हूँ तुम्हारे बाहो में सोचती हूँ काश ये मेरा सावन हर रोज आता...

  • वो शाम

    वो शाम

    वो शाम भी कितने सुहाने थे जब हमदोनो साथ एक दूसरे का हाथ पकड़ खड़े थे कितने वादे कितने कसमे देने के बाद उस शाम हम एक हुये थे उस दिन कभी कभी सोचती लौट जाऊँ...


  • बारिश

    बारिश

    बिजली चमके, बादल गरजे खूब जोरो की बारिश हुई जगह जगह इकट्ठे हुये पानी यह देख बच्चे किये मनमानी कागज की नाव बनाकर पानी मे लगे तैराने किसी की डुबती किसी की तैरती यह देख जोरो...

  • उमंग और हौसला

    उमंग और हौसला

    उमंग और हौसला को बाँध निकल पड़ी अपनी मंजिल की ओर आसान नही ये मंजिल रास्तो मे.आते है लाखो अड़चने फिर भी बुलंदियो को बूलंद किये हुये बढती जाती हूँ आगे थक के चूर होती हूँ...