Author :

  • ग़ज़ल

    ग़ज़ल

    डेरा हर तरफ़ भूख और बेबसी ने डाला हैं,, खुदा के कर्म से मेरी थाली में निवाला हैं !! क़दम जो डगमगाए मेरे दुनिया की बातों से,, हमें बस दोस्तों की मोहब्बत ने संभाला हैं !!...

  • ग़ज़ल

    ग़ज़ल

    मुझपे ही नही मेरा इक्तिहार ज़रा सा , आप कहते हो कि करो इंतजार जरा सा ।। उम्र भर का दर्द दिया है मुझे बदले में , दो पल जो किया था तूने प्यार जरा सा...