Author :

  • लघुकथा – नज़र

    लघुकथा – नज़र

    कोई दस दिन पहले एक सुबह ही अनु का मेसेज मिला “दी,अंश इज़  नो मोर ” स्तब्ध तो हुई,पर  दुःख नहीं  हुआ ! ऐसा तो पहले कभी हुआ कि किसी की मौत की खबर पर मुझे तसल्ली हुई हो...

  • प्रबंध

    प्रबंध

    पंडित किशोरीलाल ने घर में कदम रखा ही था कि  बेटी कम्मो पानी का गिलास ले आयी, तिपाई पर रख कर चाय बनाने टीन की नाममात्र की रसोईनुमा ओटक में घुस गयी ! पानी पीकर दम...



  • यह मेरा घर

    यह मेरा घर

    ”सुलू,मेरी नीली शर्ट कहाँ रखी है ?”बाथरूम से निकलते हुए राज माहेश्वरी ने पत्नी को आवाज़ लगायी और ड्रेसिंग टेबल के सामने खड़े बाल काढ़ने लगे ! “बेड पर देखिये आपकी शर्ट,ट्राउज़र,पर्स,मोबाईल और रुमाल सब वहीँ...

  • नीम की दातुन

    नीम की दातुन

    माही ने सारे छोटे गमले ट्रक में सामान के साथ लडवा कर नए फ्लेट की बालकनी में रखवाने को भेज दिए थे ! एक बार अपनी बगिया को बड़े ममत्व से निहारा मानो बगिया की हरितिमा...

  • लघुकथा : समाधान

    लघुकथा : समाधान

    सुबह रमा देर से उठी, आधी रात के बाद तो आँख लगी थी ! रात अपनी बारहवीं में पढने वाली बेटी को फोन पर किसी लड़के से बात करते सुना था तभी से मन चिंताओं से...

  • लघुकथा : बंधन

    लघुकथा : बंधन

    मनु ने अश्रुपूरित नयनो से खुद के लिखे पत्र को दुबारा पढ़ा और पेपरवेट से दबा कर रवि की मेज पर इस तरह रखा कि रवि के कमरे में घुसते ही पत्र पर नज़र पड़े !कल...

  • लघुकथा : जुगाड़

    लघुकथा : जुगाड़

    न्यू जर्सी के एयरपोर्ट पर लेने आई मिशी को देखते ही वसुधा को अपनी ननद इना की चतुराई का भान हो गया था क्यों की मिशी गर्भवती दिखाई दे रही थी वो भी लगभग पूरे दिन...

  • परवरिश

    परवरिश

    कल एक परिचित मिलने आये, कुशलक्षेम पूछने पर अपने बच्चों के बारे में बताने लगे ! बात-बात में बताने लगे, “अपने मंझले बेटे की पढाई पर विशेष ध्यान देता हूँ क्योंकि वो पढ़ने में बहुत तेज...