Author :


  • मैं श्वान हूँ

    मैं श्वान हूँ

    रोटी के टुकड़ों पर मेरा जीवन चलता, कभी-कभी तो मुझको जूठन ही मिलता। स्वामी कदमों पर लेकिन न्योक्षावर रहता, मैं रक्षक हूं, मैं सेवक हूं, सेवा में ही रहता।। पूस रात में कभी किसान बांहों में...




  • योगी प्रतिबंध

    योगी प्रतिबंध

    योगी प्रतिबंध योगी तुम्हरे फरमान ने, फसलों को है मारा, छोड़ रहे सब यू पी में, गौ वंश नहीं जो प्यारा। खड़ी फसल को खाते, जी भर कर लतियाते, बैठ खेत जम्हुआई लेते, घूम रहे जो...



  • ।।साथ चलें।।

    ।।साथ चलें।।

    चलो आज मुखातिब होते हैं, बातें दो चार संजोते है, सब बातें कह दो तुम अपनी, हम अपनी पीड़ा धोते हैं। चलो आज मुखातिब होते हैं……. राजनीति के छल छंदों से आगे बढ़कर, क्षेत्र विकास हित...

  • मुक्तक

    मुक्तक

    प्रणय घड़ी की स्मृतियां, विस्मृत न कर देना, तन न्योक्षावर मैं कर दूं, फिर छोड़ कभी न देना। बांह पाश में जकड़ रहे हो, प्रेम पिपासु बन कर, प्रेम रस का पान कर मधुकर, त्यज कभी...