Author :

  • चुनावी दुल्हन

    चुनावी दुल्हन

    धड़क रहा है दिल दुल्हन का, मचल रहे इसके अरमान, अभी बराती द्वार खड़े हैं, चाह रहे सब ही सम्मान। एक कुर्सी है बीस खड़े हैं, किसका भाग्य प्रबल प्रभु जाने, लगा दिये हैं धन बल...



  • अब केवल निंदा नहीं

    अब केवल निंदा नहीं

    निंदा के बदले हिन्द में ना जिंदा आतंकी दिखे, करे समर्थन जो इनका ना उनके धड़ पर शीश दिखे, पत्थरबाजों की टोली मरकर राख लगे बनने, चाह रहा है हिंदुस्तान नहीं सुहागन चीख दिखे। रक्तिम आँखों...



  • बहाना होती है

    बहाना होती है

    आँगन की रौनक बहाना होती है, भाई के जीवन की गहना होती है। नेह के धागों पर रंग दुआओं के, ले बाँधें कलाई जो बहाना होती है।। —प्रदीप कुमार तिवारी— परिचय - प्रदीप कुमार तिवारी नाम...


  • विनम्र श्रद्धांजलि

    विनम्र श्रद्धांजलि

    लड़ता रहा मौत से प्रतिपल, किंचित ना भयभीत हुआ। सत्ता और विपक्ष भी जिसका, निष्ठा से मनमीत हुआ। देह त्याग कर चला स्वर्ग में, इन्द्रासन अब डोला है। देख प्रतिष्ठा अटल की शचिपति, मन ही मन...

  • अटल जी अमर हैं

    अटल जी अमर हैं

    समय का पहिया चलेगा जब तक, अटल अटल था अटल रहेगा। छोड़ दिया देह मगर अब, जीवन दर्शन अटल रहेगा। काल के कपाल पर जो , लिखता मिटाता रहा। जन-जन में अटल रहा वह, जन-जन में...