Author :


  • युगों युगों तक

    युगों युगों तक

    युगों युगों तक कीर्ति आपकी नहीं मिटेगी, प्रलय तलक पदचिन्ह आपकी नहीं मिटेगी। यहां गौरव गाथा गीतों में बनकर गूंजेगी, पर मनुज रुप में किसी सदन में नहीं दिखेंगी।। आयेंगी लाखों पदचिन्ह पकड़कर सदन में, पर...


  • हिमा दास

    हिमा दास

    वह दौड़ रही है जीवन के स्याह पहलुओं से आगे, वह दौड़ रही है जंजीरों को तोड़ मनुज ने जो बांधे। ना रोक सकेगा कोई अब ये तो सरिता बन बैठी है, बाँध तोड़ जब नदी...


  • अठखेली

    अठखेली

    मन चल मिट्टी में मिट्टी होकर, यौवन को महकाते हैं, जल-मिट्टी में लथपथ होकर, साथी का हाँथ बटाते हैं। अगर शरारत हो करनी तो, देना है कीचड़ जरा उछाल, पास बुलाकर प्रेम छुअन से, प्रियतम के...

  • चुनावी दुल्हन

    चुनावी दुल्हन

    धड़क रहा है दिल दुल्हन का, मचल रहे इसके अरमान, अभी बराती द्वार खड़े हैं, चाह रहे सब ही सम्मान। एक कुर्सी है बीस खड़े हैं, किसका भाग्य प्रबल प्रभु जाने, लगा दिये हैं धन बल...



  • अब केवल निंदा नहीं

    अब केवल निंदा नहीं

    निंदा के बदले हिन्द में ना जिंदा आतंकी दिखे, करे समर्थन जो इनका ना उनके धड़ पर शीश दिखे, पत्थरबाजों की टोली मरकर राख लगे बनने, चाह रहा है हिंदुस्तान नहीं सुहागन चीख दिखे। रक्तिम आँखों...