Author :

  • चन्द हायकु

    चन्द हायकु

    चन्द हायकु 1. चुप रहना कुछ मत कहना कर दिखाना। ———– 2. अकेला तू ही बदलेगा दुनिया शुरु तो कर। ———– 3. शिक्षा जरूरी जीवन-संग्राम में डिग्री नहीं। ———– 4. सब संभव कुछ न असंभव करके...

  • अनुभव

    अनुभव

    मनोज दसवीं कक्षा में पढ़ता था। वह अपने माता-पिता की इकलौती संतान था। पढ़ाई-लिखाई के साथ-साथ वह खेलकूद में भी बहुत तेज था। वार्षिक परीक्षा समाप्त हो चुकी थी । उसके सभी पर्चे अच्छे हुए थे।...

  • सबक

    सबक

    बहुत पुरानी बात है। नंदनवन में एक तालाब था। उसके किनारे एक बेल का पेड़ था। उस पेड़ पर एक नटखट बंदर रहा था। वह दिन भर उछलकूद करता रहता था। इस पेड़ से उस पेड़...

  • इमोशनल पोस्ट

    इमोशनल पोस्ट

    इमोशनल पोस्ट “हलो।” “हल्लो मम्मी, कैसी हैं आप ?” “मैं तो ठीक हूं, पर तुम्हें ये क्या सनक चढ़ी है रक्तदान करने की। अभी दो महीने पहले ही ब्लड डोनेट किए थे। और अब फिर से...

  • बोल बम

    बोल बम

    सावन का महीना था। केसरिया रंग के झण्डे, केसरिया परिधान, कंधे पर काँवर लिए शिव भक्तों का हुजूम चला जा रहा था। ‘बोल बम’ और ‘हर-हर महादेव’ के नारों से आकाश गूँज रहा था। काँवर ढोने...

  • भक्ति

    भक्ति

    पूरी पंडिताइन है मालती। गजब की पूजा-पाठी कोई भी व्रत-त्योहार नहीं छोड़तीं। हरेली, जन्माष्टमी, महाशिवरात्रि, करवा चौथ, हरितालिका व्रत, सब निर्जला रखती हैं। आज के युग में भी वह प्याज, लहसुन तक नहीं खाती। वह अन्नपूर्णा...