कथा साहित्य लघुकथा

वर्ल्ड रिकॉर्ड

वर्ल्ड रिकॉर्ड “सर, हमने एक जबरदस्त प्रस्ताव तैयार किया है जिसमें आपकी अगुवाई मे पूरे राज्य में एक ही दिन में एक करोड़ पौधों का रोपण कर गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में राज्य का नाम दर्ज किया जा सकता है।” वन विभाग के प्रमुख सचिव ने मुख्यमंत्री जी से कहा। “पी.एस. साहब, पिछले साल […]

कथा साहित्य संस्मरण

पिताजी की सीख

संस्मरण पिताजी की सीख यह जुलाई, सन् 1989 की बात है। पिताजी ने मुझे अपने पास बुलाकर कहा, “बेटा, अब तुम बड़े हो चुके हो। तुम्हारी दीदी भी शादी करके अपने ससुराल चली गई है। इसलिए मैं चाहता हूँ कि अब से तुम घर के छोटे-मोटे काम किया करो।” मैंंने कहा, “ठीक है, बताइए मुझे […]

पद्य साहित्य हाइकु/सेदोका

हरियाली तीज के हाइकु

तीजा के हाइकु “”””””””’””””””””””’” तीजा के दिन हुआ पुनर्मिलन पार्वती-शिव। ***** भोले भंडारी परम उपकारी हैं दुखहारी। ***** आया है तीजा ले खुशियाँ अपार आएगा मजा। ***** प्यार हमारा सूरज-चाँद जैसे रहेगा सदा। ****** तीजा का पर्व सुहागिन का धर्म मनाएँ हम। ****** तीजा के रंग मायके में उमंग बेटी के संग। ****** दीर्घायु पति […]

लघुकथा

भाई

लघुकथा “””””””””” भाई “”””” किसी बात पर बच्चों की लड़ाई में पहले उनकी माँएँ फिर पिता भी कूद पड़े। मामला थाने तक पहुँच गया। थानेदार ने समझा बुझाकर दोनों भाइयों में सुलह करा दी। पर इस घटना के बाद दोनों भाई एक दूसरे के पक्के दुश्मन बन गए। घटना के सालों बाद जब बड़े भाई […]

हास्य व्यंग्य

मोबाइल महात्म्य

“अजी सुनिये तो।” कहती हुईं हमारी श्रीमती जी मोबाइल हाथ में पकड़े मेरे सामने आकर खड़ी हो गईं। “अजी सुनाइए तो…” हमने भी अपनी मोबाइल से नज़रें हटा कर श्रीमती जी को प्यार से देखते हुए कहा। “लगता है ये मोबाइल खराब हो गया है। आजकल ये अटक-अटक कर चलता है।” श्रीमती जी ने शिकायती […]

कथा साहित्य कहानी

सब्र का फल

मुकेश छब्बीस साल का एक खूबसूरत, होनहार नौजवान था। जब राज्य प्रशासनिक सेवा की परीक्षा पास कर वह एक उच्च पद पर आसीन हुआ, तब उसके सामने विवाह के लिए एक से एक खूबसूरत, पढ़ी-लिखी और नौकरीशुदा लड़कियों के रिश्तों की लाइन लग गयी थी। वह भलीभांति जानता था कि शादी-व्याह कोई बार-बार होने वाला […]

पद्य साहित्य बाल कविता बाल साहित्य

माँ

मेरा दु:ख, माँ का दु:ख मेरी खुशी, माँ की खुशी चोट मुझे लगती है मेरी माँ रो पड़ती हैं। खाना मैं खाता हूँ माँ तृप्त हो जाती हैं। मुझे सुलाकर ही सोती हैं पर वे ही सबेरे जगाती हैं। मेरे हर मर्ज की दवा मेरी माँ ही होती हैं। ईनाम मैं पाता हूँ माँ खुश […]

पद्य साहित्य हाइकु/सेदोका

चंद हाइकु

चंद हाइकु 1. खत्म करेगी कोरोना महामारी आपसी दूरी। *** 2. घर में रहें बाहर न निकलें कोरोना ठेलें। *** 3. कहीं भी जाएँ सेनिटाइजर व मास्क लगाएँ। *** 4. आवश्यक हो तो ही बाहर जाओ जान बचाओ। *** 5. कोरोना भी तो चाइना उत्पाद है टिकेगा नहीं। *** 6. मेरा विश्वास हारेगा ये कोरोना […]

कथा साहित्य संस्मरण

माँ

संस्मरण “””””””””” माँ “” वैश्विक महामारी कोरोना के संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए भले ही भारत में 25 मार्च, 2020 से लॉकडाऊन की शुरुआत हुई हो, परंतु हमारे शहर रायपुर (छत्तीसगढ़ की राजधानी) में 18 मार्च, 2020 की दोपहर को पहला कोरोना पॉजिटिव केस मिलने के तत्काल बाद पूरे शहर में धारा 144 लागू […]

कथा साहित्य लघुकथा

उतरन

उतरन “घर की स्थिति से तुम भलीभांति वाकिफ हो फिर भी रीता को गीता के पुराने कपड़े पहनाने से क्यों मना करती हो ? रीता और गीता दोनों कोई गैर तो नहीं, सगी बहने हैं।” रमेश ने अपनी पत्नी से कहा। “भले ही दो जोड़ी कपड़े पहनें, पर अपने पहने, किसी की उतरन नहीं, चाहे […]