Author :





  • ढाई आखर सत्ता के…

    ढाई आखर सत्ता के…

    उन्होंने कबीरदास जी से ही जीवन में प्रेरणा पाई और वे ही उनके आदर्श रहे हैं।आज भी वे उनके भक्त बने हुए हैं।हालांकि स्वयं के जीवन में उनकी बातों को कभी नहीं उतारा क्योंकि वे स्वयं...



  • कोयल का गीत

    कोयल का गीत

    कोयल का गीत भीषण उष्णता के बीच सूरज के तेवर भी जहाँ रोक न सके कोयल की कूक वह हर पल अपना राग सुनाती बिना रूके बिना डरे वह अपने घरोंदे में खुश है आम्र कुंज...

  • खत

    खत

    खत (1) अब कहाँ कोई लिखता है खत न ही कोई करता है इंतजार न अब अपनों से गिला न परायों से कोई शिकवा कहाँ वह भावनाओं का समन्दर जो दिल से उतरकर अश्रु बन नयनों...