Author :

  • अन्नदाता

    अन्नदाता

    अन्नदाता हाँ वह अन्नदाता है लेकिन क्या तुमने देखा है उसे खुलकर मुस्कुराते हुए या फिर वह कब हँसा था ठहाके मारकर लगता है वह हँसना-मुस्कराना ही भूल गया है क्या तुमने देखा है उसके सपनों...

  • कलुषित मन

    कलुषित मन

    “वह कुलटा नारी सम्पूर्ण ग्राम का माहौल खराब कर रही थी। ग्राम का कोई भी परिवार उस कुलटा नारी को पसन्द नहीं करता था। ग्राम की बड़ी-बूढ़ी औरते उसे कुलच्छनी कहती थीं। उस कुलटा नारी का...