सामाजिक

मेरी कुछ बातें शायद अभी भी क़ैद में हैं

जी हां कुछ बातें हमेशा कैद में पड़ी रहती है। वे जन्म लेती है हृदय में भावों की गहराई से और वहीं अपना जीवन गुजार देती है। उन्हें मिली कैद का भी कारण होता है, उन्हें शांति बिगाड़ने की शंका में मिलती है कैद। क्योंकि हृदय भयभीत होता है, कि यदि इन्हें आज़ाद कर दिया […]

सामाजिक

पिंजरा

जब एक नन्ही  चिड़िया तिनका-तिनका जोड़कर अपना घोंसला बनाती है बड़े अरमान और  विश्वास से उसे सजाती है और सोचती है  इसमे वोऔर उसके बच्चे सुरक्षित रहेगे खुशी मे वो भूल जाती है घोंसला तो उसका है जिसे उसने कड़ी मेहनत और लगन से बनाया है पर वो पेड़ या वो घर उसका नही जहां […]

सामाजिक

आपका बुरा वक़्त, उसका मापदंड, संयम और सीख 

जिन्दगी में बहुत सारी चीज़ें ऐसी होती हैं, जो आपके अनुसार नहीं चलती। आप दिल से पूरे मन से चाहते हो, कोशिश करते हो की वो चीज़ ठीक वैसे ही हो जैसे आप चाहते हो। लेकिन शायद यही तो जिन्दगी है कि कुछ चीज़े बिल्कुल आपके खिलाफ और आपके इच्छा के विपरीत होती ही हैं। […]

कविता

हमने इश्क़ नही बनारस किया था

एक दूसरे के हर आदतों को, बनारस के कण कण में महसूस किया था। बनारस की विविधता ने हमे, साथ बिताने को कितने खूबसूरत लम्हे दिया था। उन लम्हों को हमने भी क्या खूब जिया था। सच में हमने इश्क़ नही बनारस किया था। मै काशी विश्वनाथ के पुरानी दीवारों सा था, और वह उन […]

सामाजिक

युवा अर्थात् वायु

युवा का उल्टा होता है “वायु”-अर्थात जो वायु के वेग से चल सके, जिसके मन में उत्साह हो, उमंग हो, जो जीवन का कोई लक्ष्य निर्धारण किया हो और लक्ष्य प्राप्ति के लिये दृढ़ संकल्प हो वह युवा है, युवा वर्तमान है, जो खुद को बेहतर बनाने के लिये जो सोचता और करता है वह […]

गीतिका/ग़ज़ल

छन्द मुक्त गजल

एक रात में रद्दी, अखबार हो क्या? खून के प्यासे, तलवार हो क्या? करते हो कविता, बेकार हो क्या? डरते हो खुद से, गद्दार हो क्या? लौटाया सबने, पुरस्कार हो क्या? सर पर हो चढ़ते, बुखार हो क्या? बढ़ते ही जाते, उधार हो क्या? रुलाते हो सबको, प्यार हो क्या? जीत की बधाई, हार हो क्या? सबकी है […]

सामाजिक

एक भावनात्मक रिश्ता : सूखा पेड़ और मैं 

मुझे वो पेड़ उस पार्क में सबसे खूबसूरत चीजो में से एक लगता है। बहुत सारी टहनियां निकली हुई है जिसे पार्क वालो ने एक अच्छा आकार दे दिया है। पतों ने कब का साथ छोड़ दिया है उस बेचारे का। देखने में वो बिल्कुल उम्र के आखिरी पड़ाव में लगता है। नीचे से बिल्कुल […]

सामाजिक

संवेदनशील रिश्तों को तराजू में कैसे तौलें

हर रिश्ते को कितनी आसानी से अपनी-अपनी सोच के अनुसार तोल देते हैं लोग.आज हम बात कर रहे हैं एक बेहद खूबसूरत रिश्ते की जिसकी गर्माहट हर किसी को सर्वाधिक भाती है जो रिश्ता हम स्वयं बनाते हैं हमें किसी वंश परम्परा के तहत नहीं मिलता,हर तरह के भेदभाव से परे ‘दोस्ती’ का रिश्ता.सबसे साफ़-सबसे […]

राजनीति

भविष्य में एग्रीकल्चर स्वरोजगार का बेहतर विकल्प

एग्रीकल्चर स्वरोजगार का सबसे अच्छा साधन है। इससे अब अच्छी कमाई की जा सकती है। बहुत से प्रोफेशनल फार्मर साइंटिफिक फार्मिंग के जरिये न सिर्फ अच्छा पैसा कमा रहे हैं, बल्कि दूसरों को भी रोजगार दे रहे हैं। यही नहीं, प्राइवेट और गवर्नमेंट दोनों सेक्टर में एग्रीकल्चर का स्कोप तेजी से बढ़ रहा है। पिछले […]

राजनीति

कोरोना से जंग जीत भी गये तो मंदी में जकड़ जाएंगे गरीब देश

दुनिया के सबसे गरीब देश बीते 30 सालों में सबसे खराब आर्थिक स्थिति का सामना 2020 में करेंगे। गुरुवार को संयुक्त राष्ट्र के कॉन्फ्रेंस ऑन ट्रेड एंड डेवलपमेंट (यूएनसीटीएडी) की ओर से जारी एक रिपोर्ट में यह बात कही गई है। सबसे गरीब देशों के बारे में इस साल की रिपोर्ट में अंतरसरकारी संगठन ने […]