Author :

  • अध्यात्म में है जीवन का सुख

    अध्यात्म में है जीवन का सुख

    यह जगत पांच भौतिक तत्वों द्वारा बना है। इन तत्वों में आकाश सबसे सूक्ष्म है। इसी कारण आकाश अपने अस्तित्व को सिर्फ ध्वनि द्वारा ही सिद्ध करता है। इस आकाश तत्व को समझने के लिए या...

  • “कामधेनु गौमाता सुरभि”

    “कामधेनु गौमाता सुरभि”

    एक ऐसा दिव्य स्थान, ऐसा दिव्य मंदिर, दिव्य तीर्थ देखना हो तो बस, वह गौमाता से बढ़कर कोई नहीं है .सनातनधर्मी हिंदुओं के लिए न कोई देव स्थान है, न कोई जप-तप है, न ही कोई...

  • निरोगी जीवन के महत्वपूर्ण सूत्र

    निरोगी जीवन के महत्वपूर्ण सूत्र

    “निरोग जीवन” एक ऐसी विभूति है जो हर किसी को अभीष्ट है .कौन नहीं चाहता कि उसे चिकित्सालयों-चिकित्सकों का दरवाजा बार-बार न खटखटाना पड़े,उन्हीं का, ओषधियों का मोहताज होकर न जीना पड़े. पर कितने ऐसे हैं...

  • दान किसे कहते हैं?

    दान किसे कहते हैं?

    दान का शाब्दिक अर्थ है – ‘देने की क्रिया’. सभी धर्मों में सुपात्र को दान देना परम् कर्तव्य माना गया है. हिन्दू धर्म में दान की बहुत महिमा बतायी गयी है. आधुनिक सन्दर्भों में दान का अर्थ किसी...


  • भक्ति में दृढ़ता कैसी हो

    भक्ति में दृढ़ता कैसी हो

    तन और मन दोनों की निर्मलता से की गई उपासना तुरंत फलीभूत होती है.इसीलिए यम, नियम, आसन प्राणायाम आदि द्वारा तन और मन को शुद्ध करने की बात कही गई है.विधि और विधान के द्वारा व्यवस्था...




  • आत्मबल से मोक्ष तक

    आत्मबल से मोक्ष तक

    हर व्यक्ति सफल होना चाहता है, शिखर चाहता है, परन्तु विवेक का प्रयोग नहीं करता . जीवन को सफल बनाने की तमाम परिस्थितियों के बावजूद विवेक न होने पर व्यक्ति रोशनी के बीच भी अंधेरों से...