गीतिका/ग़ज़ल

****गीतिका******

न लिख इश्क बदनाम हो जायेगा ! हर गली मे तेरा नाम हो जायेगा !! करके परदा निकल शामो- सहर! वरना हर सूं नजारे जाम हो जायेगा! चांद का हसीन मुखड़ा देखकर ! जीना सबका हराम हो जायेगा!! कर रही गुफ्तगू जो जुल्फ है तेरी! उंगलियो का मचलना आम हो जायेगा!! तीरे नजर हो गया […]

गीतिका/ग़ज़ल

*****गीतिका*****

शहर में रेत के सागर तलाश करती हूं ! हां मैं प्यासी हूं पानी तलाश करती हूं!! खो गया जाने कहां मैकदा औ साकी! डूबती दरिया में साहिल तलाश करती हूं!! पिया जो बूंद प्यास जवां हो गई साहिब! सामने जाम है प्याला तलाश करती हूं!! दिख गई जो किरन आस की यारो ! अंधेरे […]

गीतिका/ग़ज़ल

गीतिका

आप तो इश्क का मजा लीजिये जनाब ! जां जाती है गर तो जाने दीजिये जनाब !! खौफ कैसा आपको और किस बात का ! नाजनीं को अपना बना लीजिये जनाब !! मुस्कराईये मुस्करा कर गले से लगाईये ! बांहो को अपनी फैला दीजिये जनाब !! शुकूं जाता है जाये फिक्र कैसी आपको ! आप […]

गीतिका/ग़ज़ल

गीतिका \ गजल

आप तो इश्क का मजा लीजिये जनाब! जां जाती है गर तो जाने दीजिये जनाब!! खौफ कैसा आपको और किस बात का! नाजनीं को अपना बना लीजिये जनाब!! मुस्कराईये मुस्करा कर गले से लगाईये ! बांहो को अपनी फैला दीजिये जनाब !! शुकूं जाता है जाये फिक्र कैसी आपको! आप तो नकाब को हटा दीजिये […]

गीतिका/ग़ज़ल

गीतिका

संग बिताया जमाना हमसे भूला न जायेगा ! किये वादे जो तुमने हमसे कौन निभायेगा!! मैने गलियां करी गुलजार तुम्हारी रो रो कर ! यही सोचकर अक्सर दिल मेरा घबड़ायेगा !! कत्ल करने से पहले तुमने कुछ सोचा नही ! कातिल का पता कातिल खुद ही बतायेगा !! सांसो का कारवां अगर यूं ही चलता […]

गीतिका/ग़ज़ल

गीतिका

हसरतो को पूरा हो जाने दे ! घड़ी भर को खुद मे खो जाने दे !! कर लूंगी मै मेरा इश्क मुकम्मल ! दिल का दर्द तो मुझे सुनाने दे !! बैठ मेरे पास मेरे शरीके हयात ! मौत को जरा खता बताने दे !! मिली जो उम्र पल भर के लिये ! उसमे आरजू […]

गीतिका/ग़ज़ल

गीतिका

हुई अंजुमन मे आपकी रात आधी ! रह गई मुलाकात आधी बात आधी!! हाथ जो बढ़ाया हमने खफा हो गये! महफिल से हुई रूखसत बारात आधी!! नजरे उठायी जो बहकने लगे कदम! खता हो गई थी चांदनी रात आधी!! करवट बदलते ही सहर हो गई साहिब ! करार आया कहां था थी बात आधी!! फिर […]

गीतिका/ग़ज़ल

गीतिका

सरे महफिल यूं मुस्कुराना गजब हो गया ! नग्मे गाकर उनको मनाना गजब हो गया !! खो गई वो बस्तियां खो गये वो काफिले ! मिलकर उनको रिझाना गजब हो गया!! इश्क तो कीजिये रिहाई नही है मगर ! इबादत करते ही जाना गजब हो गया !! दे दे वो जो तोहफा तो कर लो […]

गीतिका/ग़ज़ल

गीतिका

इतना न हमे याद आया करो हर जगह न यूं सताया करो रोज होती है लड़ाई हमसे प्यार फिर न जताया करो घड़ी दो घड़ी जहन से मेरे दूर कही चले जाया करो मचल उठती है हसरते मेरी गली से न गुजर जाया करो हो जाती है धड़कने जवां तरस इनपे जरा खाया करो इश्क […]

गीतिका/ग़ज़ल

*गीतिका *

मै तेरे करीब आने से पहले ! रोई बहुत मुस्कुराने से पहले !! जलती रही मै शामो-सहर ! आया कहां जल जाने से पहले !! बनकर मै मोम पिघलती रही ! ठंडक कहां मुझको जमाने से पहले !! नही फिक्र थी तुझको मेरी जालिम! तड़पती रही मै गुनगुनाने से पहले !! तुझको तो था बाजार […]