Author :

  • कुण्डलियाँ

    कुण्डलियाँ

    भावी पीएम देश के, देखो एक कतार सबके सब उन्नीस में, कुर्सी चढ़ेंगे यार कुर्सी चढ़ेंगे यार, जो जनता देगी तोफ़ा पीएम की कुर्सी का, बन जाएगा सोफ़ा कह पुनीत कविहाय, देश पे होंगे हावी इक...

  • गीत : ओ सेक्युलर

    गीत : ओ सेक्युलर

    ओ सेक्युलर, भारत की तुम ऐसी कुछ तस्वीर बना दो। पूरा देश एक रंग कर दो, केरल को कश्मीर बना दो। याद नहीं तुमको जब ईमांवाल जी दिल्ली पाये थे? भगवा दिया निकाल गुब्बारे हरे व...

  • गीत

    गीत

    पहले दिल्ली फिसल गई उसके बाद बिहार गया। देख सियारों के टोले से एक सिंह फिर हार गया। 15वर्ष के कुशासन को राज-ऐ-जंगल कहते थे। ख़ून डकैती और फ़िरौती ख़ूब बिहारी सहते थे। राजभवन के गलियारों...

  • खंसनाद

    खंसनाद

    ‘आप’ की बदहवासी क्या कहने । मफ़लर और टोपी आप के गहने । तन पे सुसज्जित नील स्वेटर । यही आप सर्वत्र हैं पहने । झाड़ू कर खड्ग सी धारण । “सब चोर हैं” मंत्रोच्चारण ।...

  • करारी कुण्डलियाँ

    करारी कुण्डलियाँ

    हास्य व्यंग का हर कवि पहलवान श्रीमान । शब्दों का मुगदर बना द्वंद्व करे बलवान । द्वंद्व करे बलवान कि कस के काव्य लंगोटी । कर देता अच्छे अच्छों की बोटी बोटी । कह पुनीत कवि...

  • करारी हास्य कुण्डलियाँ

    करारी हास्य कुण्डलियाँ

    दुनिया जबसे कर रही मोदी मोदी जाप। सभी विरोधी पार्टियों के लोटें दिल पे सांप। लोटें दिल पे सांप कांग्रेस हक्का बक्का। आउल हिट विकेट औ’ मोदी मारे छक्का। कह पुनीत कवि केजरी सटके खून के...