Author :

  • ग़ज़ल : क़त्ल

    ग़ज़ल : क़त्ल

    ऐसे किया है कत्ल, के ईमान ले गये। यारों वो जाते जाते, मेंरी जान लें गये। आया न कुछ नज़र, सिवा उनकी अदाओं के, चारो चरफ फैला हुआ, जहान ले गये। देखा जो उनका ताब, तो...

  • तनहाईयों से बातें

    तनहाईयों से बातें

    तनहाईयो में बैठ के, बातें करो कभी। ख़लवत में खुद से भी, मुलाकातें करो कभी। देखो तो कभी गौर से, कितनी हैं खामियां, इनको मिटाने की, करामातें करो कभी। बेख़्वाब आंखो में गुजारी, कितनी शबे ग़म,...

  • यादों के दस्तावेज़

    यादों के दस्तावेज़

    दिल में छुपा के रखते हैं, यादों के दस्तावेज़। पल पल हिसाब रखते हैं, यादों के दस्तावेज़। फैली हुयी तनहाईयों से, तू न हो पशेमां, हरदम यही कहते हैं, यादों के दस्तावेज़। यूं आलमें खामोशियों में,...


  • दहन

    दहन

    मारा था युगों पहले पर कहां मरण होता है सालों साल जलाते पर  कहां दहन होता है अब भी तो देवी का घर घर में पूजन होता है वहीं कीसी कोने में नारी का शोषण होता...

  • ग़ज़ल : यूं गुज़ारी जिंदगी

    ग़ज़ल : यूं गुज़ारी जिंदगी

    राहों में जिंदगी के ,यूं गुज़ारी जिंदगी। कभी अज़नबी लगे,पर है हमारी जिंदगी। मीलों में ये फैली है,जमीं से सितारों तक, लगे दूर बड़ी मंजिल, है तुम्हारी जिंदगी। दिल के टुकड़ों को संजोया,यूं कल्बो-ज़िगर, चले मुस्कुरा...

  • ग़ज़ल – सायबान

    ग़ज़ल – सायबान

    ऐ जिंदगी कुछ यूं गुज़र के खुद को और तराश दे है  दर्द  से  भीगी  हुई  कोई  सायबान  तलाश दे। तू रुख ज़माने का समझ के,देख दुनियां की सब़ा सूरत पे सब होते फ़िदा, सीरत को...

  • आस का पंछी

    आस का पंछी

    रहता है सबके मन में, ये आस का पंछी। उड़ता खुले गगन में ये आस का पंछी। जितनी बड़ी तमन्ना, उतनी बड़ी उड़ान, चला है मन मगन में ये आस का पंछी। बातों मैं जोश दिल...

  • मोहब्बत

    मोहब्बत

    दिल  भूलता  नहीं  क्यूं , वो  मोहब्बत  तेरी। रहती  है   साथ साथ वो ,  मासूमियत  तेरी। दिल भूलता नहीं ,,,,,,,,,,,,,, क्यूं  टीसता  है दर्द , अब  भी  कल्बो ज़िगर, रौशन है अब भी  रुह का, वो ...

  • बारिश

    बारिश

    बारिश का मौसम वैसे तो लगता है सबको सुखदाई पर गरीब के दुख को तो वर्षा रानी भी समझ न पाई उसकी छत का टपकना रातों का जागना टपकते पानी के नीचे नन्हें हाथों बर्तन रखना...