कविता

मुस्कराती सुबह

मुस्कुराती सुबह, खिलखिलाती दुपहरी, सुरभित शाम,! वक्त लिख जाता, जब तुम्हारा नाम !! व्यस्ततम क्षण भी बढ़ाते हैं , यादों के आयाम ! चितवनें प्रतिपल खोजतीं तुम्हें, लिखतीं हैं हवाओं पर पत्र, तुम्हारे नाम !! खुशियां दिल में गमकतीं हैं ‘ प्यार की सुगंध आती है आत्मा से, मुस्कानें बोलतीं हैं सतत , होठों पर […]

कविता

शंखनाद

नारी तुम, बन चंडी, उतर धरा पर.. करो स्वतन्त्रता का आगाज़ …! काटो बन्धन, लिए हौंसलें… भरो उड़ाने…. न रोक सके कोई परवाज़…!! कब तक ट्विंकल, कब तक आसिफा, कब तक बेटियाँ मारी जायेंगी ..! आने से भी डरें धरा पर सतत हैवानो के जो हाथ सताई जाएंगी मत मारो कोख में अब बेटी दरिंदों […]

गीतिका/ग़ज़ल

ग़ज़ल

लिपटता हुआ सा लगे गुल शजर से धनक सा लगे है, कसकता जिगर से मचलती उसाँसें यही कह रहीं हैं के गुज़रा है महबूब शायद इधर से महक आरही है मिरी धड़कनों से यही लग रहा है ,कि चूमा नज़र से गमकने लगी रातरानी तभी से दिखाई दिये वो गुज़रते इधर से शगूफे विगसने लगे […]

कविता

मन की कोकिल

जागती ही  रही ,रात मद से भरी मन की कोकिल, विरह राग गाती रही। तुम न थे, पर चकोरी भरी नेह से चाँद होने का बस भास पाती रही।। जो संजोये थे मन ने, मगन हो सपन । विरह की आग में,हो गये वो हवन। मालती ने पलक खोल, सिहरा  दिया, वो क्षितिज देख बुझता, […]

गीतिका/ग़ज़ल

महुआ नैन नशीले

सुनहले, रंगीले, सजीले ,छबीले ! मधुर भाव मनके , भावना से गीले ! सुधि सुगन्ध सुरभित हुई मन  गलियां । रंग सराबोर स्वप्न सहज ही परतीले। ले धड़कन गुलाल खड़ी  देहरी द्वार  शोख़ गुलाबी गाल  हुए फिर लजीले ।  है उमंग अंग -अंग मिल रहे रति अनंग मीत ,प्रीत गीत में  रंग भरे चटकीले । टेसू दहके देह ऋतुराज उतरे गेह कोयल कूक मादक स्वर […]

कविता

मैं प्रीत हूँ 

मैं प्रीत हूँ स्निग्ध प्रकृति युवा दिलों में धड़कती सदियों से महकती तरुणाई  को सौन्दर्य के रँग देती प्रेम गीतों में रागिनी बन घुली स्वरलहरियाँ बहारों में बहकती फूलों में गमकती फुनगियों पर चिड़िया बन फुदकती प्रवाहित प्रवाहिनी में झरनों सी फूट पड़ती अंदर से बाहर की ओर अविरल धार तरलतम ,सरलतम होती जाती नित […]

कविता

रूह में तस्वीर उतर जाए

बदली के स्याह काले रेशमी बालों ने चाँद को ढँक लिया महक महक गया चाँद आज बहुत करीब था बैचेन थीं उसकी धड़कन निगाहों से लिख रहा था दिल पर कोई नज़्म लग रहा था कर दिए सारे अलंकार समर्पित गीतिका को ये पल बेहद खूबसूरत थे जिन्हें वक्त भी सहेजना चाहता है स्मृतियां दीवानी […]