राजनीति

सावधान !

आज देश पर बड़े संकट के संकेत दिखाई पड़ रहे हैं। एक तो पड़ोसी देश पाकिस्तान में बढ़ते आतंकी हमले, विश्व में आतंकियों के बढ़ रहे हौसले, भारत, पाकिस्तान, एवं कई अन्य देशों में राजनैतिकों की बढ़ती लिप्सा, स्वार्थपरता, आदि ये सब भारत के लिए शुभ लक्षण नहीं है। केंद्र की मौजूदा सरकार विपक्षियों के […]

ब्लॉग/परिचर्चा सामाजिक

एक सच्ची घटना

एक घटना किसी पत्रिका में पढ़ी थी शायद आप लोग भी पढ़े हों। यह घटना नहीं अपितु सच्चाई है। कुछ दिन पहले कहीं तुफान आया था जिसमें बहुत जान माल का नुकसान हुआ था। इस तूफान के कारण बहुत सारे बच्चे अनाथ हो गये थें। कुछ लड़कियों को एक अनाथालय में व्यवस्था की गई थी […]

राजनीति

योजना आयोग की समाप्ति

श्री नरेंद्र मोदी की सरकार ने विगत दिनों दो ऐतिहासिक निर्णय लिए | सरकार बनने के तुरंत बाद उन्होंने योजना आयोग को समाप्त करने का फैसला किया | उसी कड़ी में पिछले सप्ताह केन्द्रीय सरकार के सचिवालय में संयुक्त सचिव तथा अतिरिक्त सचिव स्तर के अधिकारियों की संविदा नियुक्ति का निर्णय किया | निश्चित रूप […]

राजनीति

मुसलमानों की देशभक्ति पर सवाल नहीं

मुसलमानों की देशभक्ति पर सवाल नहीं : मोदी — प्रधानमंत्री का यह बयान स्वागत योग्य है। मुस्लिम धर्मगुरुओं ने भी इस बयान की तारीफ की है। कांग्रेस को यह बयान अच्छा इसलिए नहीं लग रहा है क्योंकि वह हमेशा हिन्दू और मुसलमान को बांटकर ही राजनीति करती आयी है, मुसलमानों को हिन्दुओं का भय दिखाकर […]

ब्लॉग/परिचर्चा समाचार

सरकार द्वारा बजट पेश

माननीय प्रधान मंत्री जी आपकी सरकार द्वारा बजट पेश किया गया जो कुछ लोगों द्वारा सराहा गया तथा कुछ लोगों ने इसकी आलोचना भी किया है। आपका प्रस्तुत बजट कैसा भी बना हो आम आदमी चाहे वह मजदूर है, गांव का किसान है, बुनकर है, रिक्शा चलाने वाला है, ठेला लगाने वाला है, गांव में […]

विविध समाचार

राष्ट्रभक्त बन्धुओं से आग्रह

बन्धुवर/भगिनी ईश कृपा से आप स्वस्थ एवं सानन्दपूर्वक रहते हुए राष्ट्र के भविष्य के बारे में अवश्य चिन्तन कर रहे होंगे। आज देश की दिशा और दशा से कोई भी भारतीय अनभिज्ञ नहीं है। परम पिता परमेश्वर की अनुकम्पा एवं राष्ट्रीय विचारधारा के जन जागरण से गुजरात के मुख्य मन्त्री रहे श्री नरेन्द्र भाई मोदी […]

ब्लॉग/परिचर्चा सामाजिक

कोैन ईश्वर है कोैन नहीं

पूज्य शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानन्द सरस्वती जी के बयान में कितनी सच्चाई है इसके विवाद में न पड़ते हुये इतिहास के पन्नों पर यदि दृष्टि डाली जाये तो पता चलता है कि सच्चाई कुछ और ही है। श्रीमद्भगवत गीता को ही लें तो भगवान श्रीकृष्ण सातवें अध्याय के सोलहवें श्लोक में कहते है- ‘‘चतुुर्विद्या भजन्ते मां […]

सामाजिक

यौन शिक्षा कलंक है

यौन शिक्षा पर इधर कई दिनों से टी बी चैनलों पर बहस चल रही है जिसमें कई संभ्रांत महिलाएं भी यौन शिक्षा के पक्ष में अपने तर्क देते हुए देखी जाती हैं। प्रश्न यह उठता  है कि अनादि काल से भारत में रहने वाले लोग जो चार पुरुषार्थों की कामना करते  आये हैं जिसमें से […]