पुस्तक समीक्षा

परिश्रम पारसमणि और पुखराज है -हीरो वाधवानी

हीरो वाधवानी जी अजमेर राजस्थान में जन्मे देश के ख्यातिनाम सूक्तिकार के नाम से जाने जाते हैं। इनकी अदबी आइनो,प्रेरक अर्थपूर्ण कथन और सूक्तियाँ सकारात्मक सुविचार सकारात्मक अर्थपूर्ण सूक्तियाँ कृतियाँ प्रमुख है। आपकी कृतियाँ निराश ,हताश,अवसाद, तनाव से ग्रस्त व्यक्तियों को  जीवन जीने की नई राह बताती है। जीवन का सार छुपा होता है आपकी […]

कविता

बेटियों की सुरक्षा

आगत का स्वागत नवागत का स्वागत करें। करें विस्मृत अतीत को वर्तमान से सन्तुलन करें।। आँख नम हो गई सुन शहीदों के परिवार की बातें। आओ हम वतन की हिफाजत के रखवालों की बात करें।। दे सके न जान सरहद पर भले ही हम दोस्तों। मगर देश हित छोटे छोटे काम अवश्य शुरू करें।। हम […]

कविता

नया साल

अच्छे दिन की आस में उन्नीस गुजर गया। दोस्तों फिर से संभलने का वक़्त आ गया।। मायूस देखा है आदमी को प्याज के लिए। भाव बढ़ते बढ़ते प्याज कहाँ से कहाँ आ गया।। रात भर जी एस टी ने सोने नहीं दिया आदमी को। नये सामान खरीदने का लो वक़्त आ गया।। पुराने नोट सा […]

गीतिका/ग़ज़ल

सपना

मैं भी दुनिया देखना चाहती हूँ। आसमां में  ऊँचा उड़ना चाहती हूँ।। मैंने भी कुछ सपने दिल में संजोए हैं। उन सपनों के साथ जीना चाहती हूँ।। मैं प्यार से बोलती तो दुनिया कहती। मैं भी चिड़िया सी चहकना चाहती हूँ।। मैं नन्ही परी पापा की दुलारी मैना हूँ। मम्मी की गोद में ही रहना […]

गीतिका/ग़ज़ल

पहला प्यार

खून के खत से शेर चार लिखा था। मैंने पहला -पहला प्यार लिखा था।। रात को जब सोया था जी भर कर। तेरे चेहरे पर मेरा इजहार लिखा था।। छत पर तेरा आना और  मुस्कराना। दिल पर तेरा मैंने  इंतज़ार  लिखा था। भुला नहीं पाया मैं  पहली मुलाकात। जब अजनबी पर एतबार लिखा था।। न […]

पर्यावरण

धुंध में लिपटी राजधानी

दीपावली के तीन दिनों बाद हमारे देश की राजधानी दिल्ली धुंध के काले आवरण से ढँक चुकी थी।दिल्ली में पिछले कुछ वर्षों से प्रदूषण की दर बढ़ती जा रही है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार 1600 बड़े  शहरों में दिल्ली प्रदूषण में सबसे आगे हैं। भारत मे दिल्ली के अलावा ग्वालियर व रायपुर में भी […]

इतिहास

प्रख्यात शिक्षाविद -भारत रत्न डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन

 “केवल निर्मल मन वाला व्यक्ति ही जीवन के आध्यात्मिक अर्थ को समझ सकता है स्वयं के साथ ईमानदारी आध्यत्मिक अखंडता की अनिवार्यता है।” ये शब्द थे भारत रत्न डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जिन्होंने  अपने जीवन के चालीस वर्ष शिक्षा के क्षेत्र में शिक्षक बन कर निकाले। वे कहते थे “कला मानवीय आत्मा की गहरी परतों […]

धर्म-संस्कृति-अध्यात्म

भातृत्व की भावना स्थापित करता है रक्षा बन्धन का त्योहार

इस वर्ष 15 अगस्त को रक्षा बंधन का त्योहार आया है। स्वन्त्रता दिवस के साथ हम सब रक्षा बंधन मना रहे हैं। ज्योतिषियो के अनुसार इस बार रक्षा बंधन पर भद्रा नही है। इसलिए पूरे दिन राखी बांधने का क्रम चलेगा। जिससे इस पर्व का महत्व और बढ़ गया है । तो बहने अपनी थाल […]

मुक्तक/दोहा

बारिश लगे सुहानी

पहली बारिश आ गई, लोग मचाते शोर। धरती तपती अब नहीं, लगे सुहानी भोर।। घुमड़ घुमड़ कर आ गए, फिर से बादल रोज। देखो कैसा नाचता , बागों का ये मोर।। पहली बारिश ने दिया, सबको ये संदेश। जागो खेती तुम करो, बदलो अब परिवेश।। शीतल शीतल पवन चले, और चले बौछार। बारिश के दिन […]

भजन/भावगीत

भगवान परशुराम की वन्दना

ॐ जय ऋषिवर परशुराम,जय ऋषिवर परशुराम। विप्र जाति के रक्षक,सबके लीला धाम।।ॐ जय…. जमदाग्नि नन्दन हो,जग के पालनहार। रेणुका से जन्में,किया शत्रु संहार।।ॐ जय….. महादेव की भक्ति में,सब अर्पण किया। बदले में शिवजी ने,परशु भेंट किया।।ॐ जय…. कल्प सूत्र के सृजनकर्ता, चिरंजीवी ब्रह्मचारी। जन कल्याण करण हित, संहार कियो भारी।।ॐ जय….. ईश भक्ति पितृ भक्ति,अरु […]