Author :

  • “बहारों की बात करते हैं”

    “बहारों की बात करते हैं”

    फलक पर चांद सितारों की बात करते हैं बाग में आए बहारों की बात करते हैं, रात के स्याह अंधेरों की बात क्या करना सुबह सूरज के नजारों की बात करते हैं, वो लहरे जो हमारे...

  • “अपने मन की”

    “अपने मन की”

    शुरू करो कुछ अपने मन की कब तक करोगे सबके मन की, लोगों को खुश करना छोड़ो कब तक सुनोगे बेसर पर की, अपनी खिचड़ी पका रहे सब कब तक भरोगे मटकी जल की, उठो लड़ो...

  • ग़ज़ल – हंसता और हंसाता क्या

    ग़ज़ल – हंसता और हंसाता क्या

    मेरी जिंदगी में आकर बस यूं ही चले जाओगे पता जो होता मुझको तो दिल को लगाता क्या सारी रात तेरी बातें सारी रात तेरे चर्चे महफिल में तेरे किस्से लोगों को सुनाता क्या सरे राह...

  • मोहब्बत की बातें

    मोहब्बत की बातें

    अब वो प्यार मोहब्बत की बातें सुनने में कम ही है आते, सीरी फरहाद के किरदार कहानियों से बाहर नहीं आते, खूने दिल से खत लिखते थे आंखों से करते थे तब बातें, इंतजार करते थे...

  • “इंतजार उसी का है “

    “इंतजार उसी का है “

    हाले दिल अपना बता ना सके राजे दिल अपना छुपा ना सके इंतजार करते रहे सुबह शाम इंतजार उसी का है जता ना सके गीत गाता रहा ग़ज़ल सुनाता रहा पर सुनाना था जिसको सुना ना...

  • अपना बना ही लेंगे

    अपना बना ही लेंगे

    धीरे-धीरे तुझको अपना बना ही लेंगे देर लग सकती है पर तुझको मना ही लेंगे, बड़ी बेश कीमती होती है दिल की दौलत कितना भी संभालों पर तुम से चुरा ही लेंगे, आसमान पर बिखरे हुए...

  • जिंदा रखोगे तो जी लेंगे

    जिंदा रखोगे तो जी लेंगे

    तू दर्द में रखेगा हम दर्द में जी लेंगे जिस हाल में रखेगा उस हाल में जी लेंगे, भरोसा तुझपर है पूरा शंका नहीं तनिक भी रुलायेगा तो रो लेंगे हसायेगा तो हंस भी लेंगे, तुमको...

  • पुकार

    पुकार

    हर वक्त पुकारा है भगवान, आपको मैंने जब द्रोपदी की तरह चीर हरण हो रहा था मेरा राज सभा हंस रही थी मुझ पर तब भी, जब सीता की तरह त्यक्त कर दी गई थी मैं...

  • ज़िन्दगी मिल गई मुझको

    ज़िन्दगी मिल गई मुझको

    ज़िन्दगी मिल गई मुझको मगर जीना नहीं आया सामने दरिया था मेरे मगर पीना नहीं आया बहा डाला जिगर का खून जिन अपनो की खातिर वही कहते रहे देखो उसे पसीना नहीं आया बहुत भटका हूं दर बदर कभी इधर कभी...