Author :



  • कान्हा आ जाना

    कान्हा आ जाना

    बाट देखूं मैं तेरी बेकरारी से कान्हा तू आ जाना …..२ आ जाना ….फिर ना जाना …..२ फिर से मुरली बजाना प्यारी प्यारी मधुर धुन सुना जाना बाट देखूं मैं तेरी बेकरारी से कान्हा तू आ...


  • सुरक्षा का ध्यान

    सुरक्षा का ध्यान

    सुशील मुम्बई के नजदीक उपनगर ‘ विरार ‘ में रहता था । उसके ताऊ गांव से मुम्बई घूमने के इरादे से उसके यहां आए हुए थे । सुशील के साथ मुम्बई के दर्शनीय स्थलों की सैर...

  • नुकसान भरपाई

    नुकसान भरपाई

    बड़े धूमधाम से बेटे की शादी करके अपने अरमान पूरे करने के चक्कर में संपतलाल कुछ कर्जदार पहले ही हो गए थे । रही सही कसर पानी के अभाव में सुख गयी फसलों ने पूरी कर...

  • सीख

    सीख

    रमेश एक आदर्श पिता की तरह अपने इकलौते पुत्र रोहन का पालन पोषण बड़े ही उत्तम तरीके से कर रहा था ।  शिक्षा के लिए अच्छे स्कूल में दाखिले के अलावा रमेश उसके खान पान ,...

  • रोजगार

    रोजगार

    शहर के बस अड्डे के समीप ही झुग्गियों में से एक झुग्गी में लाली और उसके कुछ साथी तीन पत्ती की बाजी खेल रहे थे । कुल चार मित्र खेल रहे थे और बाकी कई उन्हें...