Author :


  • -दस हाइकु-

    -दस हाइकु-

    1 – क्या -क्या जंजाल इक्कीसवीं सदी में सब बेहाल | 2 – सत्य कसैला मनमोहक झूठ बाजी ले लूट | 3- शब्दों की भीड़ बीमार कल्पनाएं अर्थ रहित | 4 – पीड़ा का मौन पिघलता...

  • -क्षणिकाएँ –

    -क्षणिकाएँ –

    1 – आत्मा का उत्थान तै करता है आवागमन के पथ को प्रकाशमान !! 2 – जीवन -मरण जन्म -जन्मांतर के कर्मों का है अलग -अलग संस्करण | 3 – जन्म -जन्मांतरों के कर्मों का बीजगणित...







  • हँसना मना  है-लघुकथा

    हँसना मना है-लघुकथा

    मेरी पड़ोसिन सरस्वती ने बातों- बातों में आज बताया कि “उसके पति को हँसना पसंद नहीं है” | सुनकर मुझे बड़ा आश्चर्य हुआ |“ पढ़ा लिखा सॉफ्टवेयर इंजीनियर ,बड़े पद पर कार्यरत है | फिर भी...