Author :

  • सफ़र

    सफ़र

    इस जमाने में बहुत लोग मिलेंगे                     कुछ सहारा देंगे कुछ मायूश करेंगे लेकिन हमें सोचना है हम क्या करें इस जालिम जमाने से कैसे लड़ें यदि इनसे...

  • सफ़र

    सफ़र

    सब्र कर वन्दे तेरे भी दिन आएंगे कर रहे हैं आज जो तेरी बुराई कल वही लोग तुमको मनाएंगे बस ईमानदारी से मेहनत करो आप जरूर ही आगे बढ़ जाएंगे सफर में कठिनाइयां तो बहुत होंगी...

  • स्वार्थ

    स्वार्थ

    हर व्यक्ति अपना स्वार्थ देखता है यहाँ एक शब्द निःस्वार्थ भी होता है यहाँ मेरा स्वार्थ कहाँ पर सिद्ध होगा यही दिमाग बुनता रहता है यहाँ किसी का कुछ भी हो मतलब नहीं प्रत्येक व्यक्ति नकाब...

  • वीर शहीद

    वीर शहीद

    लेता हूँ जब शहीदों का नाम आँख में आँसू भर आते हैं सुनता हूँ जब वीरों की गाथा तो मेरे भी बाजू फड़क जाते हैं अपनी धरती माँ की रक्षा को जो सीना ताने अड़ जाते...



  • तू बेजुबान है….

    तू बेजुबान है….

    वेजुबान है रे ! तू वेजुबान है तेरी पीड़ा क्यों नहीं समझता इंसान है दौड़ता है तू केवल भूख की खातिर तेरे अंदर भी कोई ईमान है काटता है जीवन तू दुःख से भरा जो तेरा...


  • हम मुस्कुरायेंगे

    हम मुस्कुरायेंगे

    सही वक़्त आने दो उन्हें हम बताएंगे जिसने आज ठुकराया वही गले लगाएंगे हमने कर ली तैयारी आगे बढ़ जाएंगे वो बैठेंगे दरिया पर हम तैर कर दिखाएंगे उसने की बेवफाई उसे भी निभाएंगे बहुत गुरूर...