Author :


  • आँखे कुछ बोलती है

    आँखे कुछ बोलती है

    तुम्हारी आँखे मुझ से कुछ बोलती है जाने अनजाने राज खोलती है नज़रे टकराकर जब झुक जाती है बिना कुछ कहे जब वो रुक जाती है दिल करता है पूछ लू एक बार क्या है आँखो...

  • तुम को ढूंढ़ा करती हैं

    तुम को ढूंढ़ा करती हैं

    पुरे आठ पहर नज़रे तुम को ढूंढ़ा करती हैं किसी के आहट पे तुम को ढूंढ़ा करती हैं एहसास तो पास का होता है पर नज़रे उदास होती है तेरे बेरुखी आदतों ने मुझे उदास कर...

  • उफ़

    उफ़

    ये सादगी और तुम्हारा ये संजीदापन मेरी जान ही लेते है मुँह से उफ़ तक नहीं निकलती और ये मेरे प्राण ही लेते है परिचय - रवि प्रभात पुणे में एक आईटी कम्पनी में तकनीकी प्रमुख....

  • आजा मेल

    आजा मेल

    आजा मेल आजा मेल अब कितना इंतज़ार कराओगे एक साल तो बीत गया क्या अब अगले साल ही आओगे सुबह रोज़ अनुमान लगाते और हो जाते है फ़ैल हम सब भी बेबस दीखते जैसे है ये...

  • ना

    ना

    तुम्हारे ना पीछे जरूरर कोई राज होगा तुम इकरार न कर लो इसी लिए इंकार होगा में तो शहीद हो गया तुम्हारे प्यार में अब तो तुम्हारी शहादत का इंतज़ार होगा परिचय - रवि प्रभात पुणे...

  • मेरी प्यारी बिटिया रानी

    मेरी प्यारी बिटिया रानी

    तेरी पायल की रुनझुन से घर मेरा डोले तेरी एक किलकारी पे पापा है बोले जब से तुम आई जिंदगी में मेरे खुशियों की बारिश होती है साँझ सबेरे तुम से ही सुरु होती है खुशियों की...

  • मेरे दोस्त

    मेरे दोस्त

    तुम्हारी दोस्ती एक अहसास है जो मेरे जिन्दा रहने की आस है तुम से दूर रह कर बस सास लेता हूँ तुम्हारे साथ ही जिन्दा रहने का अहसास लेता हूँ खून के रिश्ते तो बाट देते...

  • मुक्तक : तुम

    मुक्तक : तुम

    मेरे हँसने और रोने में तुम्हारा ही नाम आयेगा दिल तोड़ दो या जोड़ दो तुम्हारे ही काम आयेगा अपना बनाकर भी तुम मुझे छोड़ दो चाहे कभी दिल की हर धड़कन में तुम्हारा ही नाम...

  • तेरी मोह्हबत

    तेरी मोह्हबत

    तेरी यादो में दिन रात गुजार देता हूँ जब पास आती हो तो खुद को भुला देता हूँ तब भी ना हुआ तुमको मेरी मोह्हबत का एह्शाश अब तेरी मोह्हबत पाने को इस दुनिया को भुला...