इतिहास

आजादी की लड़ाई के महानायक नेताजी सुभाष चंद्र बोस

भारत भूमि पर कई महान वीर योद्धाओं व देशभक्तों ने जन्म लिया हैं। और मातृभूमि की रक्षा के लिए सदैव आगे रहे और अपना सबकुछ तन-मन-धन त्यागकर देश की आज़ादी के लिए न्यौछावर कर दिया था। देश की आज़ादी की लड़ाई में देश के अनेक लोगों और नेताओं ने अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया था। उन […]

कविता

मेरे देश की मातृभूमि महान

सबसे प्यारा मेरा भारत देश महान । रंग-रंगीली संस्कृति मेरे देश की शान।। यह देश मेरा स्वर्ग की भूमि है । और अमृत जिस देश का पानी है ।। यहां का हर बच्चा जैसे भगत सिंह और मेरी हर बहनें झाँसी की रानी है।। हम मिलकर रहते है देश के निवासी । है बहुत गौरवपूर्ण […]

पर्यावरण

किसानों पर आफत : उम्मीदों पर पानी फेर रही टिड्डियां

किसान मेहनत से खेत जोत कर खेती करता हैं जो दिन-रात एक कर के बड़े जी जतन से फसल उगाता हैं। फिर भी उसे पूरी मेहनत का फल पूरा नहीं मिल पाता हैं। चाहे कभी बेमौसम बारीश, ओलावृष्टि, या समय से बारिश का न होना, पाला पड़ना, फिर बाजार में उचित भाव का भी नहीं […]

सामाजिक

साल का आखिरी दिन, और नववर्ष का सुस्वागतम्

“यह वर्ष तो बीतने को है। यह वर्ष आपके लिए सुखद रहा होगा ऐसी उम्मीद है। नववर्ष भी आपके लिए सदा शुभ मंगलमय रहे, आपकी उम्मीदें संकल्प पूरे हो ऐसी शुभकामनाऐ ।” चाहे साल का आखिरी दिन हो या जिन्दगी का। दोनों ही हसीन होते हैं। रात को बारह बजने का घंटा बजते ही तारीख […]

सामाजिक

नववर्ष के स्वागत में शुभकामनाओं से सजा बाजार

” दिस न्यू ईयर गो ऑन सेलिब्रेट इन स्टाइल,  आई होप देट द न्यू ईयर ब्रिंग्स यू जाॅय   एंड कटीन्यू हैपीनेस इन योर लाइफ….!!!” ” नया साल में न केवल कैलेंडर का पुराना होकर नये कैलेंडर का पहला पन्ना होगा।  बल्कि दीवार से वो पुराना पुरा कैलेंडर ही हमेशा के लिए हटा लिया जाएगा […]

सामाजिक

माया के मकड़ जाल में फंसी आज की शिक्षा व्यवस्था

हम शिक्षा के बिना मानव पशु समान हैं,क्योंकि शिक्षा ही सभ्यता एवं संस्कृति के निर्माण में सहायक सिद्ध होती हैं और मानव को अन्य प्राणियों में श्रेष्ठ बनाती हैं। आज की शिक्षा एक व्यवसायीकरण होकर रह गई है जो बेहद चिंता का विषय है। आज शिक्षा की आड़ में पैसा कमाकर ज्यादा से ज्यादा धन […]

धर्म-संस्कृति-अध्यात्म

मनुष्य जीवन में अनुशासन सर्वोपरि इससे ही प्रगति संभव

मनुष्य जीवन में अनुशासन का बहुत महत्व है। इससे ही चहुंओर प्रगति और प्रतिष्ठा का मुकाम हासिल किया जा सकता हैं। अनुशासन ही सर्वोपरि है। किन्ही आवश्यक निर्धारित नियम के पालन करने व्यवहार का नाम अनुशासन हैं। शास् का अर्थ है शिक्षा आज्ञा आदेशअनु का अर्थ है पीछे चलना, अनुसार चलना। अंग्रेजी भाषा में अनुशासन […]

सामाजिक

बुजुर्गों का सहृदय सम्मान करें : इनकी वेदना व आत्म सम्मान को ठेस न पहुचांये

बड़े – बुजुर्गों का आत्म सम्मान करना हमारी जिम्मेदारी हैं। आज इनकी वजह से ही सबकुछ है, इनकी अवस्था देखकर निन्दा या तिरस्कार नहीं करना चाहिए इनकी सेवा, आत्म सम्मान, सेवा-चत्कार करना हमारा परम् धर्म हैं। आजकल इनके मानसिकता के ठेस पहुंचाने के मामले बड़ी तेजी बढ़ रहे हैं। बड़े शर्म व निंदनीय यह बात […]

पर्यावरण

वन्य जीवों के संरक्षण हेतु विशेष कदम उठाने की जरूरत

प्रकृति पेड़-पौधे व जीव-जंतुओ से प्यार । बन्धुओ! यही तो हैं अपने जीवन का आधार ।। वन्य जीवों व पर्यावरण का संरक्षण करना बहुत महत्ती आवश्यकता हैं। वन्य प्राणी व पर्यावरण पर दिनोंदिन वार बढ़ते जा रहे हैं जो बेहद चिंता का विषय हैं। इनका संरक्षण खना मानव जाति का आवश्यक कर्तव्य है और कर्तव्य-निर्वहन […]

पर्यावरण

पर्यावरण संरक्षण में बाधक प्लास्टिक पर प्रतिबंध सराहनीय कदम

प्रकृति एवं मानव ईश्वर की अनमोल एवं अनुपम कृति हैं। प्रकृति अनादि काल से मानव की सहचरी रही है। लेकिन मानव ने अपने भौतिक सुखों एवं इच्छाओं की पूर्ति के लिये इसके साथ निरंतर खिलवाड़ किया और वर्तमान समय में यह अपनी सारी सीमाओं की हद को पार कर चुका हैं। स्वार्थी एवं उपभोक्तावादी मानव […]