Author :

  • गीतिका

    गीतिका

    मेघ बरसे लगे मनों -भावन साथ पाया सुना बनी गर्जन| प्रेम करता हुआ रहा आमद दूर भागा बसा हुआ क्रंदन| चोट खाया भले किया मंथन होश से हो जवाब अनुबंधन | खोज में मन हुआ लिये...

  • लघुकथा -बहकते कदम

    लघुकथा -बहकते कदम

    “देख नीति, तू ऐसा वैसा कुछ करने की सोचना भी मत| मनीष अच्छा लड़का नहीं है, माना कालिज में तुम्हारा अच्छा मित्र है | उसके साथ अधिक निकटता या विवाह का सोचना ठीक नहीं ,”उसके घरवाले...

  • गज़ल

    गज़ल

    गज़ल देश-प्रेम फर्ज़ निभाना पड़ेगा दुश्मन को मार भगाना पड़ेगा. अब तुमको चुपचाप सोना नहीं मीठी बातों में आके खोना नहीं. सबक बैरी को तो सिखाना पडेगा. ये हिमालय की जमीं अजंता सज़ी त्रिवेणी हमारी आन...

  • गज़ल

    गज़ल

    ले तलब आंखे साजिश क्या करें खेत बंजर है तो बारिश क्या करें मिलन आँसू प्यास पाई जो धरा तन्त्र पाये रास साजिश क्या करें आस दरिया की नदी पाने से बनी मेल पल भर सा...



  • गज़ल

    गज़ल

    खुदा सबकी कब यूँ इमदाद क्यूँ नहीं करते ये कौन लोग है फरियाद क्यूँ नही करते. अभी नज़र न करे ये सभी रूदाद क्यूँ नही करते सुबह जब नींद जागे तो सम्वाद क्यूँ नही करते. खुदा...

  • कविता

    कविता

    दुआओ में लिये अपने ,घर को खुशहाल बनाना है, घनी रूकावटो होते सपने ,भागते घोड़े सा निशाना है. न रुकना ही न बैठे ही रहे, बस गम में बेग बढाना अश्व सी तेज चाल रेखा ले...

  • लघुकथा -अंधभक्ति

    लघुकथा -अंधभक्ति

    “बाबा, मेरे पति कुछ साल पहले मेरी किसी बात से नाराज़ होकर कहीं चले गये| आप उनके बारे में बता कर मेरी कुछ मदद कर दीजिये| मैं आपका ये अहसान जीवन भर नहीं भूलूंगी|” सरिता हाथ...

  • गीत

    गीत

    ये चूड़ियाँ वाला इस उम्र में कड़ी मेहनत करता है तीज़-त्योहारों में बहू-बेटियों के खुशी पल भरता है| बेटे तो पढ़ा-लिखा गृहस्थी में खो गये लगता है ये बेचारा पेट की खातिर राह बैठ निकलता है|...