विज्ञान

राष्ट्रीय गणित दिवस, रामानुजन जयंती और गणित शोध

22 दिसंबर है राष्ट्रीय गणित दिवस। भारतीय गणितज्ञ श्रीनिवास रामानुजन जयंती। अब नहीं रहेगा ‘अभाज्य संख्या’ का आतंक : जानिये आगामी अभाज्य सं. को। सम्पूर्ण संसार के गणितज्ञ और थोड़े-बहुत गणित के जानकार भी ‘अभाज्य संख्या’ ज्ञात करने के नाम से परेशान और आक्रान्त रहा है । भारत ‘संख्या-सिद्धांत’ (Number – Theory) के मामले में […]

कविता

सबकुछ ड्रामा है

देश के हर क्षेत्र के महापुरुषों के सुचिंत्य विचारों की कद्र होनी चाहिए, किन्तु हम जैसों के वाज़िब विचारों को खारिज़ कर नहीं! सुपरस्टार रजनीकांत के शब्दों में- “मैंने आजीविका के लिए अभिनय किया, उसके बाद मैंने अपने जीवन की जरूरतें पूरी कर ली। अब मैं इसका आनंद ले रहा हूँ। अब यह मेरे लिए […]

अन्य लेख

ट्रेजडी किंग, कैप्टन कूल, दादामुनि और झंडा दिवस

हिंदी फिल्म के महान अदाकार, ट्रेजेडी किंग, पद्म विभूषण, दादा साहब फाल्के अवार्डी, निशान-ए-इम्तियाज़ दिलीप कुमार उर्फ मोहम्मद यूसुफ खान के 99वीं जन्म-जयंती (जन्मतिथि- 11 दिसम्बर 1922) पर सादर नमन। इसी वर्ष 7 जुलाई को उनका देहांत हो गया। फिल्मी करियर ‘ज्वारभाटा’ से शुरू करके ‘किला’ तक शताधिक फिल्मों में कार्य किये, उनकी पत्नी अभिनेत्री […]

अन्य लेख

सभी नदियों की स्वच्छता

निःसंदेह, गंगा भारत की पवित्र नदी है, जिसे देश में माँ का दर्जा प्राप्त है। हम गाना के मार्फ़त कहते भी हैं कि मानो तो गंगा माँ हूँ, न मानो तो बहता पानी ! इसके बावजूद देश की अन्य नदियां भी पवित्र है और लोगों की विविध आवश्यकताओं की पूर्त्ति करते हैं। सिर्फ गंगा की […]

कविता

डायबिटीज बनाम लायबिटीज

अगर आप ज्यादातर बार ‘असफल’ हुए हैं, तो समझिए आप सर्वाधिक ‘अनुभवी’ हैं ! जरूरी नहीं कि सर्वाधिक ‘सफल’ व्यक्ति प्रसन्न ही होंगे ! “तन की सुंदरता क्षणिक है, परंतु अंतर्मन की सुंदरता जीवन के साथ-साथ और जीवन के बाद भी शोभनीय है।” सुश्री जोजिबिनी तुंजी, मिस यूनिवर्स 2019 कहिन। मन के विकार को ‘तनाव’ […]

अन्य लेख

सुपरस्टार रजनीकांत, राहुल गाँधी और चुनाव

12 दिसंबर 1950 को जन्मे श्री शिवाजीराव गायकवाड़ यानी उत्तर-दक्षिण सिनेमा की दूरी को पाटनेवाले महान अभिनेता “रजनीकांत” ने तमिल फिल्म ‘अपूर्व रागांगल’ से अभिनय की दुनिया में आये। श्रीमान अमिताभ बच्चन को आदर्श माननेवाले श्री रजनीकांत ने बच्चन जी के साथ ही पहली हिंदी फिल्म ‘अंधा कानून’ में जबरदस्त अभिनय किया। पद्मविभूषण और दादासाहेब […]

कविता

लघुत्तम बीज

जब मैं जड़ था तो चेतनलोग मुझ पर बरस गए ! अब जब चेतन हुआ तो वे सब जड़ हो गए ! अकेला चना भी अंकुरित होता है, जो कालांतर में पौधा का रूप धर इतने चने पैदा कर सकते हैं कि भांड़ फूट जाय ! आप यादों में याद आते हैं, आप ज़ज़्बातों में […]

लघुकथा

मनाकर्षण

“मन चंचल है अगर इसे रोक भी लिया जाय, परंतु तन ‘आकर्षण’ के पीछे बावरी है इसे कैसे रोकेंगे ?” -एक मित्र का एक यक्ष प्रश्न ! “मन चंचल होनी ही चाहिए, तो वहीं आकर्षण मानवीय जीवन की प्रकृति है !” -दूजे मित्र से प्राप्त दक्ष उत्तर।  

हास्य व्यंग्य

चाँदी का छनोटा

आदमी सबकुछ बन सकता है, सिवाय ‘आदमी’ बनने के ! ‘चंद्रकांता’ की तरह उपन्यास लिखने हेतु एक प्रकाशक ने 37 लाख रुपये का एडवांस ऑफर दिया है, पर नई नॉवेल में सेलफोन का उपयोग हो। इसे कहते है, चाँदी के चम्मच लेकर पैदा होना, 9 वीं पढ़ा का उप मुख्यमंत्री बन जाना ! जबरजस्त, श्वानदार,, […]

अन्य लेख

गड़बड़झाला

बिहार सरकार के उच्चाधिकारी- नियुक्ति आयोग (बी.पी.एस.सी.) के द्वारा 45 वीं CC(M) Exam. में उच्च मेधा-प्राप्तांक के बावज़ूद मेरी नियुक्ति एक दशक से नहीं की जा रही है।सभीतरह के साक्ष्य इकट्ठे कर आयोग के संवैधानिक निकाय के कारण 31.05.2013 को म. राष्ट्रपति जी को गुहारावेदन प्रेषित की, राष्ट्रपति सचिवालय से 02.07.2013 को मुख्य सचिव, बिहार […]