Author :

  • वो यमुना किनारा

    वो यमुना किनारा

    बहुत याद आता है मुझको वो यमुना किनारा। वो नीला सा पानी,वो बहती सी धारा। वो पावन सी भूमि,वो मथुरा हमारा।। सुबह सवेरे वो मन्दिर को जाना, वो यमुना किनारे घँटों बिताना।। वो बचपन की मस्ती,वो...

  • हे शिव शम्भू अंतरयामी

    हे शिव शम्भू अंतरयामी

    हे सदा शिव, हे अंतरयामी हे महाकाल, हे त्रिपुरारी हे शशि कपाल धारक हे प्रभु कष्ट निवारक हे नागेश्वर, हे रुद्राय हे नीलकंठ, हे शिवाय हे शिव शम्भू, हे प्रतिपालक हे दयानिधि हे युग विनाशक हे...


  • तुम पर जब भी गीत लिखा

    तुम पर जब भी गीत लिखा

    शब्द शब्द में सोचा तुम को फिर अक्षर अक्षर याद किया। प्रिय तुम्हारी खामोशी का ऐसे मैने एहसास किया।। तुम पर जब भी गीत लिखा। उस को लिखकर चुम लिया।। प्रिय तुम्हारी यादों को फिर अंतस...


  • ब्रज की होली

    ब्रज की होली

    ब्रज की होली होरी आयी ,होरी आयी बूढे ,बच्चे सब पर मस्ती छायी। रंगों की हो रही बौछार। आया आज खुशियों का त्यौहार। गुजिया,मठरी बहुत बनाये। ठाकुर जी को भोग लगाये।। आज घर पर बनेगी ठंडाई।...

  • अभिनंदन

    अभिनंदन

    अभिनंदन का अभिनंदन है। दुश्मन के बल का मर्दन है। छिपा सका कब कोई भला दिनकर के अखंड तेज को।। सत्य झुकता नही चाहे हो कितनी कठिन परिस्थितियों में। शेरों के शमशेर है हमारे सैनिक हरा...


  • प्यार एक अहसास

    प्यार एक अहसास

    रवि नोएडा मैं रहता था ।वहाँ पर वह एक प्राइवेट जॉब करता था ।रवि मूलनिवासी आगरा का था और अक्सर  छुट्टियों में अपनी मां से मिलने आगरा आता रहता था। रवि इस बार भी जब 2...

  • आस्तीन के सांप

    आस्तीन के सांप

    आस्तीन के सांपों से डर लगता है । ना हिंदुस्तान में डर लगता है ,ना पाकिस्तान में डर लगता है ।डर लगता है तो हमें आस्तीन के सांपो से डर लगता है क्योंकि यह साँप हमारे ही...