Author :




  • ।। अच्छे दिन ।।

    ।। अच्छे दिन ।।

    कहते थे बनवाएगें पर राम मन्दिर अभी तक बना नहीं, अनुच्छेद 370 हटाएंगे पर अभी तक तो हटा नहीं। विदेशो में रखा धन लाएंगे पर काले धन का पता नहीं, छप्पन इंच का सीना है पर...



  • कुछ तो चल रहा है

    कुछ तो चल रहा है

    कुछ तो चल रहा है। कुछ तो ऐसा है, जिसके कारण लोगों ने आक्रोश दिखाया है। पिछले साल से ही एक बीमारी आई है, कमाल है इस बीमारी का नाम और इलाज भी पता है, लेकिन...

  • वाह नेताजी

    वाह नेताजी

    आ गये हैं पीले मेंढक, टर – टर का शोर हुआ, सारे जीवों में आशा वर्षा का, चहुंओर हुआ। अंबर में है काले बादल, वर्षा नहीं घनघोर हुआ, हुई निराशा जग में, सबका मन गमगीन हुआ।।...

  • दल – दल में दलित

    दल – दल में दलित

    हाय – हाय दलित की नेता, देखो अपने मन – दर्पण में, दलित, शोषित, आदिवासी, हैं अभी उसी दल-दल में। तुम तो दलित को पलित कर, खुद रहने लगी बंगले में, हाथियों का शहर बसा, दलितों...

  • रो रहा है देश

    रो रहा है देश

    रो रहा देश है दिल्ली, जेएनयू के कर्णधारों से। ऊपज गए हैं कई गद्दार, जेएनयू के खलिहानों से। गद्दार आजादी मांग रहे हैं, सड़कों और चौबारों पर, मनाते हैं मातम अब ये, नये साल जैसे त्यौहारों...