Author :

  • विरहता

    विरहता

    विरहता के समय आती है यादें रुलाती है यादें पुकारती है यादें ढूंढती है नजरे उन पलों को जो गुजर चुके सर्द हवाओ के बादलों की तरह खिले फूलों की खुशबुओं से पता पूछती है तितलियाँ...

  • मुलाकात

    मुलाकात

    तुझसे मुलाकात तो एक बहाना है फूलों को मौसम की रंगत दिखाना है बात लब पर आने को मचलती है बहारें मौसम पर आने को तरसती है तुझसे मुलाकात तो एक बहाना है फूलों को मौसम...

  • कागज की नाव

    कागज की नाव

    बारिश में पानी भरे गड्ढों में कागज की नाव चलाने को मन बहुत करता हम बड़े जरूर हुए ख्यालात तो वो है हुजूर रिश्तों के पेचीदा गणित में उलझ जाकर पहचान भूल जाते घर आंगन जो...


  • सड़क सुरक्षा

    सड़क सुरक्षा

    बढ़ती सड़क दुर्घटनाओं में लापरवाही के कारण जान माल की हानि होती है |जिसे कई वर्षो से रोकने हेतु प्रयत्न किये गए मगर दुर्घटनाए कम नहीं हुई |सड़क पर चलते हुए या गाड़ी चलाते हुए मोबाइल पर...

  • रावण को पूजा जाता

    रावण को पूजा जाता

    कई वर्षो से मनावर जिला -धार में दशहरे पर दो- रावण नगर में हजारों लोगों के साथ भ्रमण करते है। भगवानश्रीराम, लक्ष्मण, सीता, हनुमानजी का मंचीय कार्यक्रम होकर राम लीला के माध्यम से रावण का वध...



  • स्वच्छता के स्लोगन

    स्वच्छता के स्लोगन

    प्रदूषण से पीड़ित लगते गाँव -शहर बेजान स्वच्छता से होगी अब गाँव -शहर की पहचान गंदगी न फैलाओ बताओ सबको साफ -सफाई के गुर साफ-सफाई करते रहो नहीं तो हो जाओगे रोने को मजबूर कचरों से...

  • हमे बचालो

    हमे बचालो

    धरती पर पड़ी पहली किरण ओस की बूंदो के आइने में अपना आकार देख कह रही – ओस बहन तुम बड़ी भाग्यवान हो जो कि मुझसे पहले धरती पर आ जाती हो तुम्हे तो घास बिछोने...