सामाजिक

कान्वेंट का वास्तविक अर्थ है -लावारिस बच्चों का स्कूल

क्या आपसे कभी किसी ने पूछा है कि आपके बच्चे किस स्कूल में पढ़ते है ? आपने जो जवाब दिया वो ठीक है ! पर यदि आपने ये कहा कि मेरे बच्चे कान्वेंट में पढ़ते है या St. thomos, St. xaviour या Don Bosco’s में पढ़ते है तो यकीन मानिये आपका स्टेटस सिंबल उस व्यक्ति […]

भाषा-साहित्य

स्वभाषाओं का स्वागत लेकिन….?

यह खुश खबर है कि देश के आठ राज्यों के 14 इंजीनियरिंग कालेजों में अब पढ़ाई का माध्यम उनकी अपनी भाषाएँ होंगी। नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति की पहली वर्षगांठ पर इस क्रांतिकारी कदम का कौन स्वागत नहीं करेगा? अब बी टेक की परीक्षाओं में छात्रगण हिंदी,मराठी, तमिल, तेलुगु, कन्नड़, गुजराती, मलयालम, बांग्ला, असमिया, पंजाबी और […]

भाषा-साहित्य

राष्ट्रीय कोविड टीकाकरण की वेबसाइट 11 भारतीय भाषाओं में आरंभ

भारत सरकार में कार्यरत अधिकारी अंग्रेजी की सेवा में अंग्रेजों से भी आगे हैं इसलिए भारत सरकार की पूरी प्रशासनिक व्यवस्था अंग्रेजी में संचालित की जाती है और यह बात जगजाहिर है। हर सरकारी योजना और ऑनलाइन सेवा में भारत सरकार के अधिकारी अंग्रेजी थोपने से बाज नहीं आते हैं। कोरोना काल में भी भारत […]

पर्यावरण

पर्यावरण पर चित्रांकन

यह सेंट पाॅल चर्च कालेज आगरा में कक्षा 7 में पढ़ने वाले अमोघ बंसल सुपुत्र अनन्त बंसल द्वारा बनायी गयी पेंटिंग है। इसमें उन्होंने पृथ्वी पर प्रदूषण के कुप्रभावों का प्रभावशाली चित्रण किया है। इसमें एक हाथ में बहुत ही स्वच्छ और हरी-भरी धरती माता है, जिसमें पेड़-पौधे और हरियाली के कारण हमें रहने के […]

बाल कविता

कोरोना

न जाने यह कहां से आया पूरे देश में डर है छाया। आना जाना बंद करवाया सभी लोगों को घर पर बिठाया। स्कूल की है याद  सताए दोस्तों के बिन रहा न जाए। कोरोना वायरस सबको डराए सभी के मुंह पर मास्क लगाए। लोग बाहर निकलने से भी घबराए घर पर बैठे बोर हो जाए। […]

बाल कविता

मेरा भाई

मेरा भाई सबसे प्यारा सबका है वो राज दुलारा। वो मेरी जान है उस पर सबको गुमान है। जितना लड़ता है मुझसे उतना ही प्यार करता है मुझसे। उम्र में मेरे से छोटा  है अकल में थोड़ा खोटा है। इतना भी डराऊँ उसको मुझे न बिल्कुल भी डरता है। हमेशा मुझे लड़ता है पर ख्याल […]

गीत/नवगीत

गंगा माँ को निर्मल स्वच्छ बनाना है

हिन्दू मुस्लिम सिख ईसाई सबने मिलकर ठाना है पतित पावनी गंगा माँ को निर्मल स्वच्छ बनाना है झुग्गीवासी हर वनवासी गाँव गली के वासी में धनिक दीन का भेदभाव तज घर घर नगर निवासी में नहीं प्रदूषित होने देंगे यह संकल्प जगाना है सरित श्रेष्ठा पापनाशिनी सलिला मोक्षदायिनी माँ भारतीय साहित्य चेतना को जन जागृति […]

स्वास्थ्य

अपने स्वास्थ्य को लेकर हम भारतीय इतने लापरवाह क्यों ?

भारत इस वक्त दुनिया का सबसे अधिक जनसंख्या वाला दूसरा देश है। जिस हिसाब से भारत की जनसंख्या बढ़ रही है, उसे देखते हुए लगता है कि जल्द ही भारत पहले स्थान में पहुंच जाएगा। आज भी हमारे देश में शिक्षा, स्वास्थ्य, रोजगार मुख्य समस्या है। जिसके कारण देश की आर्थिक स्थिति लगातार गिरती जा […]

भाषा-साहित्य

अदालतों में अंग्रेजी की गुलामी

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने भारत की न्याय-प्रणाली के बारे में ऐसी बातें कह दी हैं, जो आज तक किसी राष्ट्रपति या प्रधानमंत्री ने नहीं कही। वे जबलपुर में न्यायाधीशों के एक समारोह को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कानून, न्याय और अदालतों के बारे में इतने पते की बातें यों ही नहीं कह दी हैं। […]

स्वास्थ्य

लहसुन खाने के फायदे

हमारे घर के किचन (Kitchen) में कई ऐसी करामाती चीजें होती हैं जिनका फायदा हमें ज्यादा मालूम नहीं होता. उनमें से एक लहसुन (Garlic) भी है. आमतौर पर लहसुन का प्रयोग खाने को स्वादिष्ट बनाने के लिए किया जाता है. जैसे लहसुन खाने का स्वाद बढ़ा देता है, वैसे ही इसके अन्य कई फायदे भी […]