Author :



  • घायल मन!

    घायल मन!

    मन हार गया धन जीत गया ! धन हार गया जग जीत गया !! जो मन ने कहा मैं कर न सका, धन दौलत से घर भर न सका ! जीवन के अंतिम छण आये ,...

  • गीत : तुम आ जाओ

    गीत : तुम आ जाओ

      हो तुम जहाँ रहती हो साँसों में यादो के भोरे मडराने लगते है रातों में बनके चाँदनी तुम दिल में उतर जाओ हवा का झोंका बन तुम आजाओ दिल से लगी है दिल की लगन...

  • कविता :  वो यादें

    कविता : वो यादें

    जो संवारा था घर आँगन डूबा है विरह में खोजता-फिरता हूं दलहीज पर उन स्पर्शों को जब याद दिलाती वो यादें अच्छे थे मौसम कहावतों के उमड पडा सैलाब दु:ख दर्द बनकर. न जाने कहाँ था...

  • गीत : हो तुम कहां ओ जाने जां…

    गीत : हो तुम कहां ओ जाने जां…

    ये नदियां ये बहारें और ये हुस्न परियां चारों ओर फूल कलियां और नजारे देख इनको याद आयी तुम्हारी सांझ सकारे हो तुम कहां ओ जाने जां… ये बुलबुल और तारे जमीं पे फैले अनगिनत सितारे...