Author :

  • घायल खिलोंनें

    घायल खिलोंनें

      रत्ना अस्पताल के बरामदे में बैठे बाहर दूसरे बच्चों के साथ बगीचे में खेलती बेटी को देख फूली नहीं समा रही थी, बेटी वर्षा का आपरेशन सफल रहा ।बगीचे की तरफ देखते देखते उसकी आँखों...

  • बेटियाँ

    बेटियाँ

    ” बेटियाँ ” भगवान की अदभुत देन है बेटियाँ जन्म होने पर घर-आंगन में आ जाती है बहार उसकी मुस्कराहट से चहक उठता है सारा संसार माता-पिता बेहतर भविष्य की कल्पना में, उसकी शिक्षा और विवाह...

  • जिंदगी

    जिंदगी

    जिंदगी ” पल पल का नाम होती है जिंदगी कब गुजर जाती है पता नही चलता गलतियाँ करते हुये सीख देती है जिंदगी यारों जियो ऐसे की बाद में यादगार बनें जिंदगी जन्म अगले, इंसान बने...

  • जिंदगी

    जिंदगी

    *जिंदगी* के *शायद किसी मोड़ पर* तुम्हें मेरे होने का अहसास होगा अल्फाज जो मेरे लिए कहे तुमने पछतावा भी तुम्हें होगा मेरे आँखों की नमी तुम्हारी आँखों से बारिश भी होगी जिम्मेदारियों को निभाते मौसम...

  • अहंकार

    अहंकार

    बात बात पर स्नेहा अपने जुडँवा बेटों की बात छेड खुद को सर्वश्रेष्ठ औरत और माँ साबित करने की कोशिश करती थी, जैसे दुनिया में पहली बार जुडँवा बच्चे उसी के हुए हैं ।सभी उसके व्यवहार...

  • निर्णय

    निर्णय

    पंडित जी अत्यधिक परेशान, अशांत मन की शांति हेतु घर में बने मंदिर में रामायण लेकर बैठ गए । दिल और दिमाग में आशंकाओं का अथाह सागर हिलोरें ले रहा था क्योंकि इकलौते बेटे ने पडौसी...

  • बरगद की छाँव

    बरगद की छाँव

    सत्या मायके की देहरी पर बैठी अतीत के झरोखे से सब कुछ स्पष्ट देख रही थी, बेटे कैलाश की बातें दिल में शोर मचा रही थी ,” माँ रिश्तों को दिल से अपनाओ नहीं तो बुढापा...

  • हाँ मैं

    हाँ मैं

    हाँ मैं भावनाओं से भरी मैं बह जाती हूँ इस मतलबी दुनियां में हर रिश्ते के लिए दिन रात मरती और पिसती रहती हूँ मान सम्मान को न्यौछावर कर… खुश रहती हूँ मैं जीती हूँ सभी...

  • आशा

    आशा

    ” इरा, अगर दीदी समूह में शामिल होकर तुम्हारीे लघकथाएं पढ रही हैं तो मैं क्या कर सकता हूँ ? हाँ एक सुझाव जरूर दूँगा, तुम उन्हें ब्लाॅक कर दो फिर तुम्हें दिक्कत नहीं होगी ।”...

  • कर्तव्य पथ

    कर्तव्य पथ

    आज करूणा, सासू माँ के न रहने पर दोराहे पर खडी थी जिसकी कल्पना स्वप्न में भी नहीं की थी ।दूसरे शहर गए अभी, दिन ही कितने हुए थे, घर के सदस्यों में आपसी अहम के...