Author :

  • जय माँ नर्मदे

    जय माँ नर्मदे

    माँ नर्मदे “नमामि देवी माँ नर्मदे” मैखल पर्वत पर अवतरित हुईं शिव की तनया माँ नर्मदा। अलौकिक सौंदर्य मुख पर छाई नित लीलाएं दिखाती सर्वदा। शिव अपने श्रमजल प्रस्वेद से, अवतरित किया महारूपवती। सभी देव गण...

  • चिट्ठी

    चिट्ठी

    गांव,गांव की हर गलियन में, जब भी  डाकिया आता, खाखी वर्दी,हाथ में झोला टागे, साइकल की घण्टी बजाता, अपनी,अपनी चिट्ठी ले लो सब, काका,बन्धु,बेटी और भ्राता, गांव में अपने देख डाकिये को, सबका मन हर्षित हो ...

  • लापरवाही

    लापरवाही

    आज शिवानी अपने पति सौरभ के साथ अपने दोनों बच्चों (पांच साल की बेटी शुभी और छह महीने का बेटा शनि) को लेकर बाजार गयी हुई थी । उनके  मकान मालिक के बेटी की शादी होने...

  • विरह वेदना राधा रानी की

    विरह वेदना राधा रानी की

    श्याम वरन सुंदर मनमोहना, ओ यशोदा के राज दुलारे, आ जाओ मेरे मुरली मनोहर, तेरी राधा रानी तुझे पुकारे, ग्वाल बाल औ सखा गोपियाँ, सब  तक  रहे राह तुम्हारी, गोकुल की हो गईं गलियां सूनी, आ...

  • वीरों की गाथा

    वीरों की गाथा

    कुर्बान हुए आजाद  हवा, आजाद सांस का सपना ले, खुद आजादी में जी न सके, मिट गये  हमे  आजादी  दे, हम कर्जदार  उन वीरों  के, क्या उनका मोल चुकाएंगे, हम आने  वाली संतति को, उनकी   गाथा ...